जम्मू, जागरण संवाददाता: कोरोना से जंग जीतने के लिए जम्मूवासी लॉकडाउन का सख्ती से पालन कर रहे हैं। शुरूआत के चंद दिनों में जहां लॉकडाउन में भी शहर के मुख्य मार्गों व चौराहों पर वाहनों की लंबी-लंबी कतारें देखने को मिल रही थी। वहीं अब चारों ओर छाया सन्नाटा बता रहा है कि लोग अब घरों में रहकर इस जंग को जीतने की ठान चुके हैं।

जम्मू शहर में पूर्ण कर्फ्यू जैसे हालात हैं। शहर की सड़कों पर इक्का-दुक्का वाहन चालक ही नजर आते हैं और पूरा दिन शहर की सड़कें वीरान रहती हैं जिससे लॉकडाउन के प्रभावी नतीजे सामने आने की उम्मीद बंधने लगी है। प्रदेश प्रशासन ने भी रविवार को लॉकडाउन को अगले एक सप्ताह के लिए बढ़ा दिया और अगर लोग इसी तरह लॉकडाउन का पालन करते रहे तो जल्द ही कोरोना महामारी से जारी जंग जीतने में सहयोग मिलेगा।

शहर में लॉकडाउन को प्रभावी बनाने के लिए पुलिस को कोई खास कदम नहीं उठाने पड़े और लोग स्वयं इसका कठोरता से पालन करते नजर आए। सुबह दस बजे से लॉकडाउन शुरू होते ही लोग अपने जरूरी काम निपटाकर घरों में चले गए और शहर की सड़कों पर नजर आया हर तरफ सन्नाटा। शनिवार को भी शहर में इसी तरह का नजारा देखने को मिला।

सुबह छह बजे से दस बजे तक लॉकडाउन में जरूरी सेवाओं के लिए छूट रही जिसके बाद एक बार फिर से पूरा शहर लॉक हो गया। रविवार सुबह छह बजे शहर में दूध-दही, फल-सब्जियों व किरयाने की दुकानें खुली और लोगों ने घरों के लिए जरूरी सामान की खरीदारी की। शहर के बाजारों में हालांकि कोई भी दुकान नहीं खुली। शहर के गली-मुहल्लों व रिहायशी कालोनियों में जरूरी सेवाओं की दुकानें खुली और लोगों ने दिन भर का सामान खरीदा। पुराने शहर में परेड सब्जी मंडी भी चार घंटों के लिए खुली।

इसके अलावा दवाई की दुकानें रविवार को कुछ जगह आधा दिन तो कुछ जगह पूरा दिन खुली रही। सुबह के समय शहर की सब्जी मंडी में लोगों की चहल-पहल अवश्य दिखाई दी लेकिन दस बजते ही सब ओर लॉकडाउन का प्रभाव नजर आया।

Edited By: Rahul Sharma