जम्मू, जेएनएन। दो दिनों तक खिली धूप के बाद एक बार फिर बादल छाने लगे हैं। सुबह से ही बादल छाये हुए हैं। शीतलहर का प्रकोप बना हुआ है। मौसम विज्ञान केंद्र, श्रीगनर से मिली जानकारी अनुसार कश्मीर में आज शनिवार से बादल छाने लगेंगे। वहीं जम्मू में भी आज से ही पश्चिमी विक्षोभ का दवाब बनने लगेगा। परिणाम स्वरूप रविवार से उच्च पहाड़ी इलाकों में बर्फबारी और निचले क्षेत्रों में बारिश की संभावना है। अभी शीतलहर के बीच तापमान सामान्य से नीचे ही चल रहा है।

मौसम को देखते हुए शनिवार को अभी तक जम्मू-श्रीगनर राष्ट्रीय राजमार्ग पर फंसी गाड़ियों को ही निकाला जा रहा है। मौसम में सुधार होने के बाद ही गाड़ियों की बहाली संभव हो सकेगी। वहीं पुंछ से कश्मीर को जोड़ने वाला मुगल रोड भी अभी खुलने की संभावना नहीं है। वहीं श्रीनगर-लेह मार्ग पहले से ही बंद पड़ा हुआ है।

मां वैष्णो देवी की त्रिकुट पहाड़ियों पर भी बादल मंडरा रहे हैं। यहां भी मौसम खराब होने की संभवना बनी हुई है। इन सबके बावजूद यात्रा पूरी तरह सुचारु रूप से जारी है। आधार शिविर कटड़ा से चलने वाली हेलीकॉप्टर सेवा, भवन मार्ग पर चलने वाली बैटरी कार सेवा और वैष्णो देवी भवन व भैरो घाटी के बीच पैसेंजर केबल कार सेवाओं का लाभ श्रद्धालु उठा रहे हैं।

जम्मू का न्यूनतम तापमान 3.3 जबकि अधिकतम तापमान 18 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया। श्रीनगर का अधिकतम तापमान 5.8 जबकि न्यूनतम तापमान माइनस 0.6 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया। पहलगाम में सीजन की सबसे ठंडी रात दर्ज की गई। यहां न्यूनतम तापमान -14.3 रहा, जिसकी वजह से कई स्थानों पर पानी की आपूर्ति लाइनों में पानी तक जम गया। उत्तरी कश्मीर के गुलमर्ग में न्यूनतम तापमान -13.0 डिग्री सेल्सियस, काजीगुंड में -3.4 डिग्री सेल्सियस, कोकेरनाग शहर में -4.2 डिग्री सेल्सियस जबकि उत्तरी कश्मीर के कुपवाड़ा शहर में -6.1 डिग्री सेल्सियस तापमान दर्ज किया गया।

मौसम विभाग के एक अधिकारी ने कहा कि कश्मीर और लद्दाख में ठंड के कारण न्यूनतम तापमान कई डिग्री नीचे रहा। कश्मीर घाटी के कुछ हिस्सों में रात का तापमान हिमांक से नीचे रहा। लद्दाख का लेह इस क्षेत्र का सबसे ठंडा स्थान था जहां न्यूनतम तापमान शून्य से 20.2 डिग्री नीचे था। 

Posted By: Rahul Sharma

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस