जम्मू, राज्य ब्यूरो। आंखों में रोशनी न हो तो हम यह खूबसूरत दुनिया नहीं देख सकते हैं। सिर्फ कॉर्निया (पुलती:आंखों की पारदर्शी परत) खराब होने की वजह से ही कई लोगों की जिंदगी में अंधेरा छाया रहता है। मगर अब सिर्फ कॉर्निया खराब होने की वजह से दुनिया न देख पाने वाले लोगों के लिए भी खूबसूरत दुनिया देखना का मौका मिल सकेगा।

राजकीय मेडिकल कॉलेज (जीएमसी) जम्मू में अब कॉर्निया की प्रत्यारोण हो सकेगा। जीएमसी में नेत्र बैंक खुल गया है, जहां पर लोग अपनी कॉर्निया दान कर सकते हैं, जिनको दोबारा जरूरतमंद व्यक्ति को प्रत्यारोपित किया जा सकता है, जिससे उनकी अंधकारमय जिंदगी रोशन हो सकेगी।

सोमवार को राज्यपाल के सलाहकार के विजय कुमार ने जीएमसी जम्मू संभाग के पहले अत्याधुनिक नेत्र बैंक का उद्घाटन किया। नेत्र बैंक में कॉर्निया प्रत्यारोपण प्रक्रिया के सभी आवश्यक उपकरणों से लैस, नेत्र बैंक जरूरतमंदों को कॉर्निया के प्रसंस्करण और वितरण के अलावा परामर्श तक सभी सुविधाएं होगी।

सलाहकार ने कहा कि यह सुविधा राज्य में कॉर्नियल नेत्रहीनता को कम करने की दिशा में महत्वपूर्ण कदम है। जीएमसी को नेत्रदान के प्रति जागरूकता पैदा करे और लोगों को मृत्यु के बाद नेत्रदान करने के लिए प्रोत्साहित करे, ताकि कइयों की जिंदगी रोशन हो सके। नेत्र बैंक के बारे में जनता को जागरूक करने के लिए व्यापक प्रचार किया जाए। सलाहकार ने मॉड्यूलर नेत्र ऑपरेशन थियेटर की सुविधाओं का निरीक्षण किया और डॉक्टरों व छात्रों से भी बातचीत की। इस बीच, सलाहकार ने जीएमसी में ही डिजिटल मेडिकल लेक्चर थियेटर, मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया द्वारा शुरू किए गए नए मेडिकल पाठ्यक्रम के कार्यान्वयन में मेडिकल कॉलेज की फैकल्टी को पढ़ाने और प्रशिक्षित करने के लिए तीन दिवसीय कार्यशाला का भी उद्घाटन किया।

इस मौके पर सलाहकार ने जीएमसी की फैकल्टी और मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया के पर्यवेक्षक के अलावा, डॉ. अशोक शर्मा, डॉ. विशाल टंडन, डॉ. रचना मगोत्रा और डॉ. मोहम्मद रजाक से भी बातचीत की।

दवाओं की उपलब्धता जांची

सलाहकार के विजय कुमार ने जीएमसी और सहायक अस्पतालों में दवा, उपकरण और मशीनरी की आपूर्ति की स्थिति की समीक्षा के लिए विभिन्न अधिकारियों से एक बैठक की। बैठक में ङ्क्षप्रसिपल जीएमसी जम्मू डॉ. सुनंदा रैना, एमडी जेके मेडिकल सप्लाइज कॉरपोरेशन लिमिटेड शिव कुमार गुप्ता, प्रशासक एसोसिएटेड अस्पताल जम्मू स्मिता सेठी, मेडिकल सुपङ्क्षरटेंडेंट जीएमसी, एसएमजीएस, सीडी अस्पताल, मनोरोग अस्पताल और सुपर स्पेशलिटी अस्पताल और इलेक्ट्रिकल व मेकेनिकल विभाग के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे। उन्होंने अस्पतालों में सभी दवाइयां उपलब्ध करवाने को कहा।

Posted By: Preeti jha

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस