जम्मू, राज्य ब्यूरो: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राज्यों को लॉकडाउन अंतिम विकल्प बताया। इसके बाद लॉकडाउन की तैयारी में जुटे जम्मू-कश्मीर ने भी अपनी नीति में बदलाव कर दिया। अब जम्मू सहित विभिन्न शहरों में लॉकडाउन लगाने के स्थान पर माइक्रो और मैक्रो कंटेनमेंट जोन बनाई जाएंगी। इसका मकसद अधिक से अधिक लोगों की जांच करने के साथ-साथ उनका टीकाकरण करना भी है। हालांकि स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी पूरी तरह से लाकडाउन के हक में हैं।

प्रधानमंत्री के राष्ट्र संबोधन से पहले कोरोना संक्रमण के जम्मू-कश्मीर में रिकार्ड 2031 मामले दर्ज किए गए। इसके बाद कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए विभिन्न जिलों में लॉकडाउन लगाने की भी तैयारी चल रही थी। लेकिन प्रधानमंत्री के संबोधन के बाद लाकडाउन को पूरी तरह से नकार दिया गया। यह फैसला किया गया कि जिस जगह पर भी संक्रमण के मामले अधिक आएंगे, वहां पर मैक्रो कंटेनमेंट जोन बनाई जाएं। इसके बाद जम्मू शहर में बरनेई, त्रिकुटा नगर और तालाब तिल्लो क्षेत्र को मैक्रो कंटेनमेंट जाेन घोषित कर दिया गया। जम्मू के डिप्टी कमिश्नर अंशुल गर्ग ने यह आदेश जारी किया।

मैक्रो कंटेनमेंट जोन में क्षेत्र के पांच हजार लोगों की कोरोना जांच करने के साथ-साथ उनका टीकाकरण भी सुनिश्चित किया जाएगा। स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि तीन जगहों पर मैक्रो कंटेनमेंट जोन बनने से इन क्षेत्रों के पंद्रह हजार लोगों की जांच होगी। पहले माइक्रो कंटेनमेंट जोन बनाई जा रही थी। लेकिन अब मैक्रो कंटेनमेंट जोन पर ध्यान दिया जाएगा।

उन्होंने बताया कि सरकार का मकसद फिलहाल किसी भी तरह से आर्थिक गतिविधियों को जारी रखना है। लेकिन अगर कोरोना को पूरी तरह से रोकना है तो लाकडाउन ही एकमात्र विकल्प है। अगर अब भी लॉकडाउन नहीं लगाया गया तो शायद स्थिति हाथ से न फिसल जाए।

वहीं एक अन्य अधिकारी ने बताया कि फिलहाल अन्य शहरों में भी माइक्रो और मैक्रो कंटेनमेंट जोन ही बनाई जाएंगी। प्रधानमंत्री के संबोधन के बाद तो अब स्पष्ट है कि लॉकडाउन लगाने की फिलहाल कोई भी गुंजाइश नहीं है।

आपको बता दें कि जम्मू-कश्मीर में कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए प्रशासन ने पहले ही स्कूल-कालेजों को बंद करने के आदेश दे दिए हैं। यही नहीं शादी समारोह में भी मेहमानों की संख्या कम कर दी है। वहीं गत मंगलवार को उपराज्यपाल ने मॉल, शॉपिंग कांपलेक्स में स्थित दुकानों को भी चरणबद्ध तरीके से दुकानें खोलने के लिए कहा है।

 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप