जम्मू, जेएनएन। जम्मू के उम्मीदवारों के आक्रोश के आगे जम्मू-कश्मीर बैंक ने झुकते हुए कट आफ मेरिट को चालीस तक लाने का फैसला किया है। बैंक के चेयरमैन परवेज अहमद ने ट्वीट के जरिए उम्मीदवारों को अच्छी खबर देते हुए कहा कि राज्यपाल सत्यपाल मलिक के निर्देश और कई उम्मीदवारों की शिकायतों के मद्देनजर बैंक ने यह फैसला किया है कि राज्य में एक समान कट आफ मेरिट चालीस रखा जाए।

बैंक ने अपनी इस नीति में लचीलापन दिखाते हुए सभी उम्मीदवारों से कहा है कि जिसका कट आफ मेरिट चालीस से ऊपर है, वे बैंक की मुख्य परीक्षा दे सकते हैं। बताते चलें कि जम्मू-कश्मीर बैंक के प्रोबेशनरी आफिसर्स के पदों की परीक्षा के कुछ दिन पहले नतीजे घोषित हुए थे जिसमें जम्मू जिले का कट आफ मेरिट 62.5 प्रतिशत रखा गया था जबकि कश्मीर संभाग के अधिकतर जिलों का कट आफ चालीस प्रतिशत था। इससे जम्मू के युवाओं में आक्रोश भड़क उठाया। राजनीतिक पार्टियों ने भी बैंक की कड़ी आलोचना की और कई छात्र संगठनों ने इस मुद्दे पर विरोध प्रदर्शन किए। मामला राज्यपाल के पास पहुंचा।

बैंक ने विवाद बढ़ता देख अब राज्यभर में एक समान कट आफ मेरिट चालीस फीसद अपनाने का फैसला किया है जिसकी जानकारी बैंक के चेयरमैन परवेज अहमद ने दी। बैंक में पीओ की प्रारंभिक परीक्षा हो चुकी है और अब 20 मई को मुख्य परीक्षा होनी है। बैंक के इस फैसले से जम्मू के युवाओं को राहत मिलेगी और चालीस फीसद कट आफ वाले विद्यार्थी मुख्य परीक्षा दे सकेंगे। बैंक शीघ्र ही नई लिस्ट जारी करेगा।

इस मुद्दे को लेकर पैंथर्स पार्टी ने आज सोमवार को विरोध प्रदर्शन किया और जम्मू के युवाओं के साथ भेदभाव के मुद्दे को उजागर किया। 

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Rahul Sharma

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस