जम्मू, राज्य ब्यूरो : सेना की उत्तरी कमान के मोटरसाइकिल सवारों का दल सोमवार को कमान मुख्यालय उधमपुर से दिल्ली के लिए रवाना हो गया। मोटरसाइकिल सवारों का यह दल चुनौतीपूर्ण हालात में 2500 किलोमीटर का सफर तय कर 11 नवंबर को दिल्ली में नेशनल वार मेमोरियल में पहुंचेगा।

कमान मुख्यालय उधमपुर में चीफ आफ स्टाफ हरिमोहन अय्यर ने सोमवार सुबह सेना सेवा कोर के 11 सदस्यीय टारनेडोस दल को रायल एनफील्ड हिमालयन अभियान पर दिल्ली के लिए रवाना किया। इस मौके पर उत्तरी कमान के ध्रुव वार मेमोरियल के कई वरिष्ठ अधिकारी भी मौजूद थे। मोटरसाइकिल सवारों के दल का नेतृत्व मेजर शिवम सिंह कर रहे हैं। अभियान का आयोजन 8 दिसंबर को मनाए जाने वाले सेना सेवा कोर के 261वें कोर दिवस के उपलक्ष्य में किया जा रहा है।

इसी बीच उधमपुर से रवाना हुए मोटरसाइकिल सवारों के दल में सेना का एक अधिकारी व दस अन्य रैंक शामिल हैं। दल के सदस्य उधमपुर से श्रीनगर, कारगिल, लेह, खारदुंगला, सियाचिन बेस कैंप तक दुर्गम हालात में सफर करेंगे। इसके बाद वे हिमाचल प्रदेश में पांग, शिमला व चंडीगढ़ रवाना हो जाएंगे।

दल के सदस्य 11 नवंबर को दिल्ली के नेशनल वार मेमोरियल में पहुंचेगा। इस बीच अभियान के दौरान दल के सदस्य नेशनल वार मेमोरियल के साथ रास्ते में विभिन्न जगहों पर सेना के युद्ध स्मारकों में शहीदों को श्रद्धासुमन अर्पित करेंगे। इस दौरान अभियान के माध्यम से सेना सेवा कोर के स्वर्णिम इतिहास को भी उजागर किया जाएगा।

सुबह सेना सेवा कोर का 11 सदस्यीय टारनेडोस दल साहसिक अभियानों में लगातार हिस्सा लेकर सेना का नाम रोशन कर रहा है। मोटरसाइकिल सवारों का यह हैरतअंगेज कारनामों के लिए राष्ट्रीय, अंतरराष्ट्रीय स्तर पर नाम कमान के साथ 32 विश्व रिकार्ड भी अपने नाम कर चुका है। इनमें आग की टनल में सबसा लंबा सफर करने के साथ सबसे उंचा व सबसे तेज पिरामिड बनाने का रिकार्ड भी शामिल हैं। 

Edited By: Rahul Sharma