जम्मू, जागरण संवाददाता : इंटरनेट मीडिया पर बेबुनियाद खबर चलाकर अफवाह फैलाना महंगा पड़ सकता है। जम्मू जिला प्रशासन ने फेसबुक, यू-ट्यूब तथा न्यूज पोर्टल से अब सारी जानकारी देने के निर्देश दिए हैं। सुरक्षा कारणों से जिला उपायुक्त (डीसी) ने आदेश जारी किए हैं। केंद्रीय सूचना मंत्रालय के डिजीटल मीडिया डिवीजन की ओर से गत वर्ष जारी आदेशानुसार फेसबुक पेज, यू-ट्यूब चैनलों व पोर्टल को पंजीकरण करवाने की जरूरत नहीं है, लेकिन अब हर जानकारी उपलब्ध करवानी होगी।

मंत्रालय के 26 मई 2021 को जारी आदेश का संज्ञान लेते हुए अब जम्मू की डिप्टी कमिश्नर अवनी लवासा ने जम्मू में चल रहे सभी फेसबुक पेज, यू-ट्यूब चैनलों व पोर्टल संचालकों को जानकारी उपलब्ध करवाने का निर्देश दिया है। आदेशानुसार फेसबुक, यू-ट्यूब चैनलों व पोर्टल संचालकों को अब चैनल का नाम, भाषा, वेबसाइट का पूरा पता, अगर मोबाइल एप है तो उसकी जानकारी, इंटरनेट मीडिया पर चलाए जाने वाले सभी एकाउंट, पैन नंबर, किस वर्ष में शुरू किया को हर जानकारी देनी होगी।

अगर कोई कंपनी है तो उसके बोर्ड आफ डायरेक्टर्स की जानकारी व कंपनी का नंबर, पूरा पता, संपर्क नंबर, ई-मेल तथा संपादक व कर्मचारियों संबंधी जानकारी देनी होगी। जम्मू की डिप्टी कमिश्नर अवनी लवासा के अनुसार जिले में काफी संख्या में फेसबुक पेज, यू-ट्यूब चैनल व पोर्टल खबरें परोस रहे हैं। ऐसे में अगर कोई तथ्यहीन खबर चलती है तो खबर चलाने वाले के बारे में सही जानकारी प्रशासन के पास उपलब्ध नहीं रहती। इसलिए यह सारी जानकारियां मांगी है ताकि प्रशासन के पास भी रिकार्ड रहे। जम्मू में इस वक्त काफी संख्या में न्यूज पोर्टल, फेसबुक पेज, यू-ट्यूब चैनल चल रहे हैं। 

आपको बता दें जम्मू व कश्मीर में चल रहे आनलाइन पोर्टल व फेसबुक पेज पर पिछले कुछ महीनों में कई बार ऐसे बेबुनियाद खबरें चलाई गई, जिनकी वजह से सांप्रदायिक तनाव पैदा हो सकता था। हालांकि जम्मू-कश्मीर पुलिस के साइबर विंग ने समय रहते न सिर्फ ऐसे समाचारों को हटाया बल्कि इन झूठी अफवाहों को फैलाने वालों को हिरासत में लेकर उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई भी की।

Edited By: Rahul Sharma