जम्मू, राज्य ब्यूरो : उपराज्यपाल जीसी मुर्मू ने गुजरात के उद्योगपतियों को जम्मू कश्मीर में निवेश करने के लिए आमंत्रित किया है। जम्मू कश्मीर में वैश्विक निवेशक सम्मेलन से पहले देशभर में रोड शो करवाए गए हैं। अहमदाबाद में हुए आखिरी रोड शो में 2141 करोड़ रुपये के 35 आपसी सहमति पत्र (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए गए।

उपराज्यपाल ने कहा कि गुजरात के उद्योगपति विश्व में सफल हैं और उन्हें जम्मू कश्मीर में निवेश के अवसरों का लाभ उठाना चाहिए। उन्होंने गुजरात के अहमदाबाद में रोड शो के दौरान प्रमुख उद्योगपतियों के साथ बैठक में यह न्योता दिया। भारतीय उद्योग परिसंघ और राज्य सरकार की तरफ से अहमदाबाद में आयोजित बैठक में उपराज्यपाल ने कहा कि जम्मू कश्मीर में उद्योग स्थापित करने के लिए सारी अड़चनों को दूर कर दिया गया है। गुजरात के प्रमुख बिजनेस हाउस रसना, कैडिला, अम्बुजा ग्रुप, अमूल, अदानी, सुजलान, एबलान, क्लीन एनर्जी और अन्य कंपनियों के प्रबंध निदेशकों और प्रतिनिधियों ने बैठकों में भाग लिया।

राज्य में स्थानीय लोगों के हितों की सुरक्षा सुनिश्चित करेंगे : मुर्मू

जम्मू-कश्मीर प्रशासन सुनिश्चित करेगा कि नौकरियां, भूमि और संपत्ति केंद्र शासित प्रदेश के स्थानीय लोगों के लिए संरक्षित हों। इसका कारण यह है कि अनुच्छेद 370 समाप्त किए जाने के बाद केंद्र शासित प्रदेश ने निवेश आमंत्रित किए हैं। जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल जीसी मुर्मू ने सोमवार को अहमदाबाद में यह जानकारी दी। जम्मू-कश्मीर ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट के लिए आयोजित रोड शो को उपराज्यपाल ने संबोधित किया। उन्होंने कहा, ‘मैं आपको बता देना चाहता हूं कि वहां कई आशंकाएं हैं। यदि हमने जम्मू-कश्मीर को खोला तो बाहर से अनगिनत लोग आएंगे। इस मंच से मैं यह कहना चाहूंगा कि हालांकि हम सबकुछ खोलने जा रहे हैं, लेकिन हम यह देखेंगे कि नौकरियां, भूमि और संपत्ति स्थानीय लोगों के लिए संरक्षित रहें। ठीक उसी तरह जैसा गुजरात में किया गया है।’ मुर्मू ने कहा कि जम्मू-कश्मीर के युवा सक्रिय और सक्षम हैं। वहां कुशल श्रमशक्ति की कमी नहीं है। वहां खुलने वाली औद्योगिक इकाइयां उनके लिए ढेर सारे अवसरों का सृजन करेंगी। इसके लिए देश के उद्योगपतियाों को निवेश करने के लिए आमंत्रित किया गया है।

बिजनेस टू बिजनेस में 150 प्रतिनिधिमंडलों ने भाग लिया

रसना प्राइवेट लिमिटेड के चेयरमैन एवं प्रबंध निदेशक पिरूज खम्बाटा, अमूल के प्रबंध निदेशक आरएस सोढ़ी, अम्बुजा ग्रुप के प्रबंध निदेशक मनीष गुप्ता और अन्य उद्योगपतियों ने उपराज्यपाल के साथ जम्मू कश्मीर में निवेश की योजनाओं पर विचार विमर्श किया। उपराज्यपाल की देखरेख में जम्मू कश्मीर के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ 21 बिजनेस टू बिजनेस बैठकें हुई, जिनमें 150 प्रतिनिधिमंडलों ने भाग लिया।

राज्य के विकास में 10 फीसद का होगा इजाफा : अरुण मेहता

जम्मू कश्मीर सरकार के प्रतिनिधिमंडल में उपराज्यपाल के सलाहकार केके शर्मा, वित्तीय आयुक्त अरुण मेहता, आवास एवं शहरी विकास विभाग के प्रमुख सचिव धीरज गुप्ता, इंडस्ट्री एंड कॉमर्स विभाग के आयुक्त सचिव मनोज कुमार द्विवेदी के अलावा अन्य अधिकारियों ने भाग लिया। सलाहकार केके शर्मा ने कहा कि जम्मू कश्मीर में निवेश करने वाले उद्योगपतियों को पूरा सहयोग दिया जाएगा। अरुण मेहता ने कहा कि जम्मू कश्मीर 2.0 की उद्योगों के लिए आमंत्रित कर रहा है। अगले दस साल में राज्य के विकास में 10 फीसद का इजाफा होगा। इस साल वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) वसूली में 40 फीसद की बढ़ोतरी हुई है।

अगले चरण में जम्मू व श्रीनगर में मिनी सम्मेलन होंगे : विनोद अग्रवाल

इंडस्ट्री एंड कॉमर्स विभाग के आयुक्त सचिव मनोज कुमार द्विवेदी ने कहा कि जम्मू कश्मीर में पर्यटन, फिल्म पर्यटन, बागवानी, कृषि, खाद्य प्रसंस्करण, सिल्क, स्वास्थ्य, फार्मास्यूटिकल, उत्पादन, रीयल इस्टेट, हथकरघा, हस्तकला व शिक्षा में निवेश किया जाएगा। भारतीय उद्योग परिसंघ गुजरात के वाइस चेयरमैन विनोद अग्रवाल ने जम्मू कश्मीर के प्रतिनिधिमंडल का स्वागत करते हुए कहा कि राज्य में वैश्विक निवेशक सम्मेलन को सफल बनाने के लिए गुजरात का रोड शो घरेलू पहुंच की अंतिम कड़ी है। अगले चरण में जम्मू व श्रीनगर में मिनी सम्मेलन होंगे।

Posted By: Rahul Sharma

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस