जम्मू, राज्य ब्यूरो। केंद्र शासित प्रदेश लद्दाख में तैनात जम्मू-कश्मीर के 187 पुलिसकर्मियों को वापिस लाया जाएगा। यह सभी पुलिसकर्मी इस समय लद्दाख में डेपुटेशन पर लद्दाख में काम कर रहे हैं। अब इन सभी को जम्मू-कश्मीर में वापिस भेजने की प्रक्रिया शुरू हो गई है। पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों के अनुसार ये पुलिसकर्मी काफी समय से लद्दाख में डेपुटेशन पर थे। अब जम्मू-कश्मीर के पुनर्गठन के बाद जम्मू-कश्मीर और लद्दाख दो अलग-अलग केंद्र शासित प्रदेश बन गए हैं। इसलिए इन पुलिसकर्मियों को वापिस लाया जा रहा है। इसके लिए जल्द ही औपचारिकताएं पूरी कर दी जाएंगी। इसके बाद इन्हें स्थायी तौर पर जम्मू-कश्मीर में भेज दिया जाएगा।

वहीं कश्मीर के कुछ पुलिसवालों के एक प्रतिनिधिमंडल ने आरोप लगाया है कि वे कई सालों से लेह में काम कर रहे हैं। उन्हें लेह से वापिस कश्मीर भेजने के आदेश भी औपचारिक रूप से जारी हो गए हैं लेकिन बावजूद इसके उन्हें वापिस कश्मीर नहीं भेजा जा रहा है। उन्हें इस बात की कोई जानकारी नहीं है कि इसके पीछे क्या कारण है। क्यों लेह में अभी तक उन्हें तैनात किया गया है। इन पुलिसकर्मियों का कहना था कि 31 अक्टूबर को जब लद्दाख अलग केंद्र शासित प्रदेश बन गया तो उन्हें उसी वक्त वहां से कश्मीर भेज देना चाहिए था लेकिन लद्दाख प्रशासन लगातार इसमें देरी कर रहा है।

इन पुलिस कर्मियों ने कहा कि वे इस समय कड़ाके की ठंड में ड्यूटी देने के लिए विवश हैं। उनकी छुट्टियां तक रद कर दी गई हैं। लेह की एसएसपी सरगुन शुक्ला का कहना है कि एक बार अधिकारियों से मंजूरी मिलने के बाद इन सभी पुलिसकर्मियों को यहां से रिलीव कर दिया जाएगा।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस