जम्मू, राज्य ब्यूरो। जम्मू-कश्मीर के डीजीपी दिलबाग सिंह ने कहा कि पाकिस्तान और उसके आतंकी हैंडलर्स हताश हो गए हैं, वे लोगों को भड़काने और डराने के लिए कई तरह के हथकंडे अपना रहे हैं। उन्होंने अधिकारियों से कश्मीर में शांति भंग करने की साजिश रचने वालों की पहचान करने को कहा।

पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) दिलबाग सिंह ने रविवार को श्रीनगर का दौरा कर जिला पुलिस कार्यालय में जोनल साइबर पुलिस स्टेशन का उद्घाटन किया। इस दौरान उन्होंने पुलिस अधिकारियों के साथ बैठक कर कश्मीर में कानून व्यवस्था की समीक्षा की। डीजीपी ने कहा कि आतंक को जड़ से उखाड़ फेंकने के लिए और प्रयास करने की जरूरत है। 

डीजीपी ने वरिष्ठ अधिकारियों के साथ चर्चा करते हुए कानून व्यवस्था और संवेदनशील क्षेत्रों में सुरक्षा पर अधिकारियों की राय ली। इस दौरान एहतियात के तौर पर उठाए गए कदमों के बारे में डीजीपी को जानकारी दी गई। डीजीपी ने कश्मीर में शांति व्यवस्था कायम रखने के लिए अधिकारियों की हौसला अफजाई की। उन्होंने अधिकारियों को हर समय सतर्क रहने और किसी भी स्थिति से निपटने के लिए तैयार रहने को कहा। डीजीपी ने कहा कि पाकिस्तान और उसके हैंडलर हताश हैं। वे हिंसा फैलाने और लोगों को भड़काने के लिए पूरा प्रयास कर रहे हैं। उन्होंने अधिकारियों से कश्मीर में शांति भंग करने की साजिश रचने वालों की पहचान करने को कहा।

इसके साथ ही डीजीपी ने ट्रैफिक की समस्या से निपटने के लिए कदम उठाने के लिए कहा। उन्होंने कहा कि लोगों को एक जगह से दूसरी जगह जाने में कोई परेशानी नहीं होनी चाहिए। डीजीपी ने कहा कि पूर्व में भी आतंकियों से मिलने वाली चुनौतियों से निपटा गया है, लेकिन अभी और प्रयास करने की जरूरत है। आतंकियों और उनके समर्थकों की ओर से की जाने वाली हिंसा के मामलों की विस्तृत जांच की जरूरत है, ताकि इन्हें अंजाम तक पहुंचाया जा सके। उन्होंने हिंसा फैलाने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की मांग की। डीजीपी ने नशे के तस्करों और एनडीपीएस मामलों पर सख्ती बरतने के निर्देश दिए।

जम्मू-कश्मीर की अन्य खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

Posted By: Sachin Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस