जम्मू, राज्य ब्यूरो: केंद्र शासित प्रदेश लद्दाख के लिए जम्मू कश्मीर बोर्ड आफ स्कूल एजूकेशन अकादमिक सत्र 2021-22 के लिए भी काम करता रहेगा। पांच अगस्त 2019 को जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटने के बाद जम्मू कश्मीर और लद्दाख को अलग अलग केंद्र शासित प्रदेश बनाया गया था।

जम्मू कश्मीर पुनर्गठन कानून 2019 को 31 अक्टूबर 2019 से अमल में लाया गया था। फिलहाल लद्दाख का अपना बोर्ड आफ स्कूल एजूकेशन नहीं बना है। लद्दाख में दसवीं, ग्यारहवीं और बारहवीं कक्षा की परीक्षाएं आयोजित करने संबंधी सारा कार्य जम्मू कश्मीर बोर्ड आफ स्कूल एजूकेशन ही करता है। अब जम्मू कश्मीर सरकार ने अकादमिक सत्र 2021-22 के लिए भी जम्मू कश्मीर बोर्ड आफ स्कूल एजूकेशन को लद्दाख के साथ बने रहने के लिए कहा है ताकि किसी किस्म की परेशानी पेश न आए।

इस समय जम्मू कश्मीर और लद्दाख दोनों ही देश के अन्य हिस्सों की तरह कोरोना की चुनौती का सामना कर रहे हैं। ऐसे में लद्दाख के लिए अगल से बोर्ड बन पाना कठिन है। जम्मू कश्मीर बोर्ड एक और साल लद्दाख के लिए काम करता रहेगा।

स्वास्थ्य विभाग में प्रशासनिक फेरबदल: स्वास्थ्य एवं चिकित्सा शिक्षा विभाग में कई डाक्टरों के तबादले हुए। इनमें डा. अरशद हुसैन को शोपियां का मुख्य स्वास्थ्य अधिकारी नियुक्त किया गया है। डा. मोहम्मद रफीक को कुलगाम का मुख्य स्वास्थ्य अधिकारी नियुक्त किया गया है। डा. मुजफ्फर हुसैन को बडगाम जिला अस्पताल का मेडिकल सुपरिटेंडेंट नियुक्त किया गया है। इसके अलावा डा. नासीर अहमद खान को बीएमओ सल्लर नियुक्त किया है। एक अन्य आदेश में डा. गुलाम कादिर भट को स्कूल हेल्थ प्रोग्राम राजौरी, डा. फराह अल्ताफ को पीएचसी त्राला, डा. उसमा डार को पीएचसी मोगला, डा. फरीद खटाना को बीएमओ सोगाम, डा. गुलाम रहीम को बीएमओ विलगाम, डा. शगुफता को मेडिकल सुपरिटेंडेंट काजीगुंड अस्पताल, डा. गुलजार डार को बीएमओ डीएच पोरा, डा. आसमा नजीर को बीएमओ पांपोर, डा. नजीर अहमद डार को शीरी और डा. इरफान मसूदी को पीएचसी टेकीपोरा में नियुक्त किया गया है। एक अन्य आदेश में डा. जहागीर बख्शी को सुपर स्पेशलिटी अस्पताल श्रीनगर के मेडिकल सुपरिटेंडेंट का कार्यभार सौंपा गया है।