जागरण संवाददाता, जम्मू : ऑल इंडिया इंश्योरेंस इंप्लाइज एसोसिएशन की ओर से 8 व 9 जनवरी को राष्ट्रव्यापी हड़ताल का आह्वान किया है। नार्दर्न जोन इंश्योरेंस इंप्लाइज एसोसिएशन ने भी इस हड़ताल का समर्थन करते हुए इस दौरान कामकाज ठप रखने का फैसला किया है। एसोसिएशन की शनिवार को हुई बैठक में राष्ट्रीय स्तर हड़ताल का समर्थन करने का फैसला लिया गया।

बैठक की शुरुआत करते हुए नार्दर्न जोन इंश्योरेंस इंप्लाइज एसोसिएशन के महासचिव कामरेड नवीन चंद ने देश के राजनीतिक हालात पर प्रकाश डालने के अलावा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली एनडीए सरकार के फैसलों से ट्रेड यूनियन मूवमेंट के सामने खड़ी हुई चुनौतियों बारे जानकारी दी। नवीन चंद ने कहा कि 1956 से जब से लाइफ इंश्योरेंस कॉरपोरेशन गठित हुई है, उस दिन से राष्ट्र निर्माण में अपना योगदान दे रही है। आज एलआइसी के पास 25.15 लाख करोड़ रुपये का निवेश है जिसमें से करीब 25.5 लाख करोड़ सरकारी व सुरक्षित इक्विटी बाजार में निवेश किया गया है। प्राइवेट व पब्लिक सेक्टर में इंश्योरेंस इंप्लाइज की कारगुजारी सबसे बेहतर है। इसके बावजूद पहली अगस्त 2017 से लंबित वेतन वृद्धि देने से इन्कार किया जा रहा है। केंद्र सरकार ने 12 हजार बीमा कर्मियों को पेंशन लाभ देने से भी इन्कार कर दिया है। नवीन चंद ने कहा कि केंद्र सरकार के इसी रवैये ने बीमा कर्मियों को हड़ताल का रास्ता अपनाने पर मजबूर किया है।

एसोसिएशन के प्रधान कॉमरेड अनिल कुमार भटनागर ने कहा कि मौजूदा केंद्र सरकार की नीतियां अमीरों को प्रोत्साहित करने वाली हैं। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ट्रेड यूनियंस को कुचलने का प्रयास कर रही है। ऐसे में यह जरूरी है कि सरकार की नीतियों के खिलाफ एकजुट होकर आवाज उठाई जाए। बैठक के दौरान एसोसिएशन के सह सचिव मुजफ्फर अहमद वानी, डिवीजनल सेक्रेटरी पवन गुप्ता व अन्य पदाधिकारी मौजूद रहे।

Posted By: Jagran