जम्मू, जागरण संवाददाता। आरएसपुरा क्षेत्र के सीर गांव निवासी एक विवाहिता की संदिग्ध हालात में मौत हो गई। मौत के बाद ससुराल वाले शव को जीएमसी अस्पताल में छोड़कर चले गए। बाद में पहुंचे विवाहिता के मायकेवालों ने पति पर हत्या का आरोप लगाया। महिला का पति पुलिस में कांस्टेबल है जो आरएसपुरा इलाके में तैनात है। आरएसपुरा के सीर गांव निवासी पूनम (24) पत्नी अजरुन सिंह को ससुराल वाले मंगलवार सुबह गंभीर अवस्था में जीएमसी अस्पताल ले आए थे।

यहां से नारायणा अस्पताल कटड़ा ले गए। नारायणा अस्पताल में इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। शाम को शव जीएमसी अस्पताल ले आए। यहां शव को छोड़ कर चले गए। उधर, सूचना पाकर पहुंचे पूनम के मायकेवालों ने शव देखा तो उनके सब्र का बांध टूट पड़ा। मायकेवालों ने विवाहिता की हत्या करने का आरोप उसके पति पर लगाया है। उनका कहना था कि जब से शादी हुई थी, पति तंग करता था। सोने की चेन, मोटरसाइकिल तो कभी पैसों की मांग की जाती थी। तीन महीने पहले पूनम ने बच्चे को जन्म भी दिया था। इसके बाद भी उसके ससुराल में तंग करने का सिलसिला नहीं रुका। उन्होंने आरोप लगाया कि पूनम को जहरीला पदार्थ खिलाकर साजिश के तहत हत्या की गई है।

मायके वालों को नहीं दी गई कोई सूचना

पूनम के पिता रामरतन ने बताया कि उनकी बेटी को मंगलवार सुबह उसके ससुराल के लोग पहले जीएमसी और फिर नारायणा अस्पताल लेकर गए। उन्हें इस बारे में सूचना नहीं दी गई। वे सुबह से अपनी बेटी को फोन कर रहे थे लेकिन उसका फोन स्विच आफ आ रहा था। उन्होंने इसके बाद पूनम के पति व उसके ससुराल के कुछ अन्य नंबरों पर भी संपर्क करने का प्रयास किया लेकिन सभी के फोन बंद थे। उन्हें शाम को पूनम के ससुराल वालों से उसकी मौत की सूचना मिली। जब वे अस्पताल पहुंचे तो बेटी का शव जीएमसी में पड़ा था। ससुराल का कोई भी सदस्य मौजूद नहीं था। पूनम की मौत की सूचना मिलने के बाद मायके के कई लोग जीएमसी आए। उन्होंने पति पर हत्या का आरोप लगाते हुए उसकी गिरफ्तारी की मांग शुरू कर दी। इससे स्थिति तनावपूर्ण हो गई। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए कब्जे में लेकर शवगृह में पहुंचा दिया। आरएसपुरा पुलिस का कहना है कि विवाहिता का बुधवार को पोस्टमार्टम करवाया जाएगा। मायकेवालों के आरोपों के आधार पर मामला दर्ज किया जाएगा।

गांव में भी किसी को नहीं था पता

पूनम का मायका मंडाल फलाएं के सूरे चक गांव में है। डेढ़ वर्ष पहले आरएसपुरा के सुचेतगढ़ के पास गांव सीर में कांस्टेबल अजरुन सिंह के साथ शादी हुई थी। पूनम की मौत की सूचना जब सीर गांव में पहुंची तो वहां पर भी सब हैरान थे। गांव में भी किसी को पूनम को अस्पताल ले जाने की जानकारी नहीं थी। पूनम के ससुराल वाले उसे तुरंत उपचार के लिए आरएसपुरा अस्पताल ले जाने के बजाय जीएमसी अस्पताल ले आए। उपचार के लिए देरी से पहुंचने के कारण पूनम की हालत ज्यादा खराब हो गई थी। इस कारण उसे बचाया नहीं जा सका।

Posted By: Rahul Sharma

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस