श्रीनगर, राज्य ब्यूरो : उत्तरी कश्मीर में एलओसी से सटे उड़ी (बारामुला) सेक्टर में तेंदुए द्वारा बीते सप्ताह में एक छह वर्षीय बच्ची को मार डालने की घटना को लोग अभी भूले भी नहीं थे कि वीरवार को एक सात वर्षीय बालक को भी तेंदुआ ने अपना शिकार बना लिया।

जानकारी के अनुसार, दान्नी सैयदां इलाके में अब्बास हुसैन अपने स्वजन के साथ मोली नाग महक जंगल से गुजर रहा था। इसी दौरान एक तेंदुआ आ धमका। तेंदुए ने अब्बास हुसैन के सात वर्षीय पुत्र अली हुसैन पर हमला बोल दिया और उसे अपने मुंह में दबा कर जंगल में गायब हो गया। अब्बास हुसैन ने अपने बेटे को बचाने के लिए मदद के लिए अन्य लोगों को पुकारते हुए कुछ देर तक तेंदुए का मुकाबला भी किया, लेकिन नाकाम रहा।

इस घटना की सूचना मिलते ही स्थानीय ग्रामीण और पुलिस का एक दल भी मौके पर पहुंच गया। सभी ने जंगल में अली हुसैन का पता लगाने के लिए प्रयास किया। देर शाम गए अली हुसैन का शव मिला। पुलिस अधिकारियों ने बताया कि अली हुसैन के शव पर जो जख्मों के निशान मिले हैं, उनके आधार पर कहा जा सकता है कि हमला करने वाला जानवर तेंदुआ ही था। इस तेंदुए को पकड़ने के लिए वन विभाग के साथ मिलकर प्रयास किया जा रहा है।

उड़ी सेक्टर में बीते एक सप्ताह के दौरान तेंदुए द्वारा किसी बच्चे को उठा ले जाने और उसे मार डालने की यह दूसरी घटना है। इससे पहले शुक्रवार शाम को जबडार बीजामा गांव में तेंदुआ एक छह वर्षीय बच्ची मुनाजा को उठाकर ले गया था। बाद में बच्ची का शव मिला था। 

इन दोनों घटनाओं के बाद उड़ी के लोगों में दहशत व्याप्त हो गई है। लोगों ने पुलिस व वन्यजीव विभाग के अधिकारियों से अपील की कि वे इस आदमखोर तेंदुए को पकड़ने का प्रयास करें। उन्होंने कहा कि यदि समय रहते इस तेंदुए को पकड़ा नहीं गया तो यह आगे भी इसी तरह बच्चों या फिर उनके मवेशियों को अपना शिकार बनाता जाएगा।

Edited By: Rahul Sharma