राज्य ब्यूरो, जम्मू : सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) जम्मू फ्रंटियर के आइजी एनएस जम्वाल ने कहा है कि घुसपैठ की साजिशें रच रहे दुश्मन को सीमा पर मुंहतोड़ जवाब देने के लिए पक्के प्रबंध किए गए हैं। देशवासी आश्वस्त रहें, सीमा प्रहरी दुश्मन के किसी भी मंसूबे को कामयाब नहीं होने देंगे।

फ्रंटियर मुख्यालय पलौड़ा में आइजी ने कहा कि आतंकी घुसपैठ के लिए मौका तलाश रहे हैं। हम इंतजार में हैं कि वे आगे आएं और उन्हें उनके अंजाम तक पहुंचाएं। जम्मू संभाग के कठुआ, सांबा व जम्मू जिले में सीमा पर सर्दी के मौसम की चुनौतियों से निपटने के लिए बीएसएफ ने विशेष बंदोबस्त कर रखे हैं। जम्मू में बीएसफ इंटर फ्रंटियर कुश्ती प्रतियोगिता के समापन समारोह में आइजी ने कहा कि सीमा प्रहरी पूरा साल घुसपैठ को नकारने, सीमा के नीचे सुरंग खोदने व स्नाइपिंग से जवानों को निशाना बनाने की साजिशों को नाकाम बनाने के लिए सक्रिय रहते हैं। पंजाब की तरह जम्मू में अंतरराष्ट्रीय सीमा (आइबी) पर भले ही ड्रोन से हथियार गिराने की कोई घटना न हुई हो, लेकिन हमारी पूरी तैयारी है। अगर जम्मू क्षेत्र में आइबी पर दुश्मन का ड्रोन दिखा तो सटीक कार्रवाई होना तय है।

मौसम की चुनौतियों का सामना करने के भी कर रखे हैं प्रबंध

उन्होंने कहा सर्दियों में पहाड़ी इलाकों में बर्फबारी व बारिश के बाद मैदानी इलाकों में कोहरा फैल जाता है। इससे दूर तक दिखाई देना कम हो जाता है। मौसम की इन चुनौतियों को ध्यान में रखते हुए पहले से पुख्ता प्रबंध किए गए हैं। ठंड की चुनौतियों से निपटने के लिए आइबी पर सर्द प्रबंधन रणनीति प्रभावी बना दी गई है। सीमा पार आतंकियों की मौजूदगी के बारे में उन्होंने कहा कि इस संबंध में आंकड़े अनुमान पर आधारित होते हैं। सीमा पार आतंकी मौजूद हैं और हमने उनसे निपटने की पूरी तैयारी कर रखी है। सीमा पर पाकिस्तान की गोलीबारी पर उन्होंने कहा कि हम इस प्रकार की गोलीबारी का मुंहतोड़ जवाब देते हैं।

माधोपुर नाके पर लगा थ्रीडी स्कैनर बैग में रखे हथियार व नक्शा पकड़ लेगा

जम्मू-कश्मीर से पंजाब में हथियार और नशा लाने वाले अपराधियों पर अब शिकंजा कसने में देर नहीं लगेगी। पठानकोट के माधोपुर इंटरस्टेट नाके पर 38 लाख की लागत से थ्रीडी स्कैनर लगाया है, जोकि किसी बैग, सूटकेस या फिर अन्य सामान में रखे हथियार और नशा पकड़ लेगा। शुक्रवार को स्कैनर का शुभारंभ आइजी बॉर्डर रेंज एसपीएस परमार ने किया। आइजी परमार ने बताया कि माधोपुर नाके पर रोजाना हजारों वाहन गुजरते हैं। पहले जम्मू-कश्मीर से पंजाब आने वाले वाहनों की पुलिस सामान्य तरीके से जांच करती थी। इससे कई अपराधी बैग या अन्य सामान में छिपाकर हथियार व नशा लेकर निकल जाते थे। जम्मू-कश्मीर से सटा होने के कारण पठानकोट में आतंकी गतिविधियों एवं नशीले पदार्थो की तस्करी की संभावना हर वक्त बनी रहती है। सुरक्षा के लिहाज से यह थ्रीडी स्कैनर पुलिस का काफी मददगार बनेगा। उन्होंने बताया कि पंजाब में यह पहला थ्रीडी स्कैनर है। इस दौरान एसएसपी दीपक हिलोरी, एसपी मनोज ठाकुर, एसपी विर्क, हेमपुष्प शर्मा, डीएसपी सुखजिंद्र सिंह, सुलखन सिंह, राजिंद्र मिन्हास व एसएचओ अश्वनी कुमार मौजूद थे।

यहां से रोजाना गुजरते हैं करीब 20 हजार वाहन

माधोपुर नाके से रोजाना करीब बीस हजार वाहन गुजरते हैं। इनमें लगभग 10 से 11 हजार वाहन जम्मू की तरफ से आते हैं। इतने वाहन आने पर पुलिस कर्मियों के लिए सामान्य तरीके से जांच करना संभव नहीं हो पाता था।

थ्रीडी तकनीक से होगी स्कैनिंग

पुलिस कर्मी बैग, ट्रंक या प्लास्टिक आदि किसी भी वस्तु में पैक सामान को सेंटर की खिड़की में रखेंगे। स्कैनर की थ्रीडी किरणों उसे स्कैन करेंगी और सामान की तस्वीर कंप्यूटर स्क्रीन पर दिखेगी। इससे पता चल जाएगा कि बैग में क्या है। इस प्रक्रिया में दो से पांच मिनट लगेंगे। इससे पुलिस कर्मियों को बैग में छिपाया संदिग्ध सामान पकडऩे में आसानी होगी। 

Posted By: Rahul Sharma

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस