जम्मू, ललित कुमार। जम्मू ने सदैव तिरंगा झंडा ऊंचा रखा और कभी भी राष्ट्र विरोधी तत्वों को यहां पैर नहीं पसारने दिए। अब एक बार फिर जम्मू ने साफ कर दिया है कि राष्ट्रहित के लिए हर कुर्बानी देने वाले जम्मू में वहीं रहेगा जो वंदे मातरम कहेगा। राष्ट्रवाद की यह लड़ाई किसी समुदाय या धर्म के खिलाफ नहीं, बल्कि ऐसे लोगों के खिलाफ है जो भारत में रहकर भारत विरोधी नारेबाजी करते हैं। जम्मू में भारत विरोधी किसी गतिविधि को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा और ऐसा करने वालों का हर समुदाय के लोग एकजुट होकर मुकाबला करेंगे।

शहर के कई इलाकों में दीवारों पर ऐसे संदेश लिखे पाए गए जिनमें साफ कहा गया था कि अगर जम्मू में रहना है तो वंदे मातरम करना होगा। पिछले पांच दिनों के दौरान जिन क्षेत्रों से भारत विरोधी नारेबाजी की सूचनाएं सामने आई, उन्हीं क्षेत्रों में ऐसे संदेश लिखे पाए गए। इन संदेशों में ऐसे लोगों को जम्मू छोड़ने की चेतावनी भी दी गई जो भारत विरोधियों का समर्थन करते हैं। सोमवार की रात को लिखे गए इन संदेशों को हालांकि प्रशासन ने आज सुबह ही कालिख पोत कर व कुरेद कर मिटा दिया ताकि किसी को माहौल खराब करने का अवसर न मिले। ये संदेश चाहे चंद दीवारों पर ही लिखे थे लेकिन इन संदेशों ने यह संकेत दे दिया कि राष्ट्र विरोधी तत्वों के खिलाफ जम्मू चुप नहीं बैठेगा।

मौजूदा लड़ाई राष्ट्रवादियों व राष्ट्र विरोधियों के बीच है

कुछ मौका परस्त लोग इसे साम्प्रदायिक रंग देने का प्रयास कर रहे हैं। जम्मू का मुस्लिम राष्ट्रवादी है और उन्होंने हमेशा कश्मीर व सीमापार की राष्ट्र विरोधी ताकतों के मंसूबों पर पानी फेरते हुए जम्मू के आपसी भाईचारे व साम्प्रदायिक सौहार्द बनाए रखने में सहयोग दिया है। जम्मू संभाग का मुस्लिम हमेशा राष्ट्र के लिए खड़ा रहा है लेकिन कश्मीर केन्द्रित कुछ मौका परस्त नेता इसे हिन्दू-मुस्लिम रंग देकर अपने स्वार्थ को पूरा करना चाहते है लेकिन ऐसा नहीं होने दिया जाएगा। पूरा जम्मू एकजुट है और यहां पर किसी तरह की भी राष्ट्र विरोधी गतिविधि को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। कश्मीर के कुछ मौका परस्त लोग यह कह रहे हैं कि जम्मू व देश के अन्य हिस्सों में मुस्लिमों को खतरा है लेकिन जो लोग राष्ट्र विरोधी गतिविधियों में शामिल नहीं, उन्हें जम्मू या देश के किसी भी हिस्से में कोई खतरा नहीं। जहां तक शहर की दीवारों पर संदेश लिखे जाने की बात है तो साफ है कि जम्मू में राष्ट्र विरोधियों को किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। -सीनियर एडवोकेट बीएस सलाथिया, प्रधान जेएंडके हाईकोर्ट बार एसोसिएशन

जम्मू में राष्ट्र विरोधियों को किसी तरह भी बर्दाश्त नहीं किया जाएगा

जम्मू की जमीन पर भारत विरोधी नारेबाजी या पाकिस्तान का गुनगान करने वालों के साथ राष्ट्र विरोधियों जैसा ही बर्ताव होगा लेकिन राष्ट्रवाद व राष्ट्र-विरोधियों के बीच की इस लड़ाई को साम्प्रदायिक रंग देने वाले शरारती तत्वों से सचेत रहने की जरूरत है। कुछ लोग ऐसे माहौल का फायदा उठाकर आपसी भाईचारे को नुकसान पहुंचाने का प्रयास करते है और पिछले पांच दिनों में ऐसे कुछ प्रयास हुए भी है। हमें मिलकर ऐसे प्रयासों को विफल करना होगा। जम्मू के मुस्लिम राष्ट्रवादी है और उन्होंने जम्मू की हर लड़ाई हिन्दुओं के साथ कंधे से कंधा मिलाकर लड़ी है लेकिन कुछ शरारती तत्व ऐसे मौकों का फायदा उठाकर मुस्लिमों को निशाना बनाते है जो सरासर गलत है। शहर की दीवारों पर अगर राष्ट्र विरोधियों को जम्मू छोड़ने की चेतावनी दी है तो इसमें कुछ गलत नहीं है। यह काम तो पुलिस को करना चाहिए और भारत विरोधी नारेबाजी करने वालों की निशानदेही करके उन्हें सलाखों के पीछे डालना चाहिए। -एडवोकेट शेख शकील

हालात बिगाड़ने वालों पर होगी कार्रवार्इ

-जम्मू में अगर कोई हालात बिगाड़ने का प्रयास करेगा तो उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। अगर शहर के किसी क्षेत्र में दीवारों पर कोई भड़काऊ संदेश लिखे गये हैं तो इसकी पूरी जांच होगी। किसी को भी हालात बिगाड़ने या किसी दूसरे समुदाय को निशाना बनाने की अनुमति नहीं होगी। जहां तक राष्ट्र विरोधी गतिविधियों में संलिप्त लोगों की बात है तो प्रशासन ऐसे तत्वों की निशानदेही कर रहा है। -संजीव वर्मा, डिवीजनल कमिश्नर जम्मू

संदेश लिखने वालों की तलाश कर रही पुलिस

-गांधी नगर में कश्मीर के कर्मचारियों के लिए बने क्वार्टरों के बाहर ऐसे कुछ संदेश लिखे गये थे जिन्हें मिटा दिया गया है। ऐसा करने वालों की तलाश की जा रही है। कुछ लोगों से इस मामले में पूछताछ भी हुई है लेकिन अभी तक कोई ठोस सुराग हाथ नहीं लगा है। शहर में अमन-शांति कायम रखना प्राथमिकता है। कुछ शरारती तत्व ऐसे माहौल का फायदा उठाकर साम्प्रदायिक सौहार्द बिगाड़ने का प्रयास करते हैं लेकिन पुलिस ऐसे तत्वों के साथ सख्ती से निपटेगी। -विनय शर्मा, एसपी साऊथ

जम्मू में हर राष्ट्रवादी कश्मीरी सुरक्षित : एसडी सभा

सनातन धर्म सभा ने उन लोगों को आड़े हाथों लिया है, जो यह दुष्प्रचार कर रहे हैं कि कश्मीरी जम्मू और देश के दूसरे स्थानों पर असुरक्षित हैं। यह लोगों को गुमराह करने का तरीका है। कुछ शरारती तत्व राज्य में सांप्रदायिक विभाजन की साजिश कर रहे हैं। ऐसे लोगों से सावधान रहने की जरूरत है। लोगों में असुरक्षा पैदा की जा रही है। सनातन धर्म ने साफ किया कि जम्मू किसी धर्म संप्रदाय के खिलाफ नहीं है। किसी की भावनाओं को ठेस नहीं पहुंचाई जा रही। जो लोग राष्ट्रवादी ताकतों को उकसाने का प्रयास कर रहे हैं, उन्हें माफ नहीं किया जाएगा। सांप्रदायिक विभाजन चाहने वाले देश के दुश्मन हैं। देश विरोधी नारेबाजी करने वालों को भी माफ नहीं किया जा सकता। देशभक्त कश्मीरी जनता का जम्मू में हमेशा स्वागत हुआ है, होता रहेगा। स्वार्थी तत्वों द्वारा दिये गए बयान राष्ट्र को नुकसान पहुंचाने वाले हैं, ऐसे लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जानी चाहिए। श्री सनातन धर्म सभा सांप्रदायिक सौहार्द बनाए रखने और जम्मू में कश्मीरी मुसलमानों की रक्षा के लिए कोई भी विरोध नहीं करेगी। हम कश्मीर के राष्ट्रवादी ताकतों की मदद के लिए हमेशा तैयार हैं। देश विरोधी ताकतों और राष्ट्रवादी लोगों में अंतर समझना होगा। कोई भी ऐसा कदम नहीं उठाया जाना चाहिए जिससे सांप्रदायिक सद्भाव खराब हो।
 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस