जम्मू, जागरण टीम : विधानसभा चुनाव के लिए तैयार हो रहे जम्मू कश्मीर में सियासी सरगर्मियों को तेजी देने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह एक अक्टूबर को प्रदेश के दो दिवसीय दौरे पर आएंगे। इस दौरान वह जम्मू कश्मीर के सीमांत क्षेत्रों में दो रैलियां करेंगे। पहली रैली एक अक्टूबर को जम्मू संभाग के राजौरी में और दूसरी दो अक्टूबर को उत्तरी कश्मीर में होगी।

अमित शाह की जिन इलाकों में रैलियां होंगी, वहां पर काफी संख्या में पहाड़ी भाषी व गुज्जर-बक्करवाल रहते हैं। ऐसे में अनुसूचित जनजाति दर्जे की मांग कर रहे पहाड़ी लोगों ने उम्मीद लगाई है कि गृह मंत्री उनकी मांग को पूरा करने के लिए कोई घोषणा जरूर करेंगे। वहीं गुज्जर-बक्करवालों को भी अमित शाह से बड़ी उम्मीदें हैं। गत दिनों ही जम्मू कश्मीर के युवा गुज्जर बक्करवाल नेता गुलाम अली खटाना को राज्यसभा का सदस्य बनाया गया है।

प्रदेश भाजपा अध्यक्ष रविंद्र रैना ने कहा कि गृह मंत्री अमित शाह की भव्य रैलियों के बाद जम्मू कश्मीर में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के भी दौरे होंगे। उन्होंने बताया कि राजौरी में होने वाली अमित शाह की रैली एक अक्टूबर को सुबह 11 बजे नए बस अड्डे पर होगी। इसमें राजौरी जिले के साथ पुंछ जिले के लोग भी शामिल होंगे।

वहीं दो अक्टूबर को गांधी जयंती के दिन उत्तरी कश्मीर में अमित शाह की रैली में कुपवाड़ा, बारमुला व बांडीपोरा से लोग आएंगे। पार्टी जल्द तय करेगी कि गृह मंत्री की यह रैली उत्तरी कश्मीर के बारामुला में होगी या कुपवाड़ा जिले में आयोजित होगी। वहीं पहाड़ी भाषियों को एसटी के दर्जा देने पर रैना ने कहा कि इसका बिल संसद में आएगा। वहां पर ही इसपर चर्चा होगी।

श्रीनगर में कैंसर अस्पताल का नींव पत्थर भी रखेंगे शाह : जम्मू कश्मीर ओकाफ बोर्ड कश्मीर में एक कैंसर अस्पताल बनाने जा रहा है। जम्मू कश्मीर ओकाफ बोर्ड की अध्यक्ष दरक्षां अंद्राबी ने बताया कि हमने आग्रह किया है, हमें पूरी उम्मीद है कि केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह दो अक्टूबर को इस अस्पताल का नींव पत्थर रखेंगे। यह अस्पताल श्रीनगर में स्थित ईदगाह के पास ही बनेगा।

 

Edited By: Rahul Sharma