जम्मू, राज्य ब्यूरो : विभागीय पदोन्नति नहीं होने से खफा स्वास्थ्य कर्मियों ने अब फिर से आंदोलन की राह पर चलने का फैसला किया है। जम्मू-कश्मीर मेडिकल इंप्लाइज फेडरेशन के बैनर तले स्वास्थ्य कर्मी अब जिला हेडक्वार्टर में प्रदर्शन करेंगे। फेडरेशन के प्रधान सुशील सूदन ने सोमवार को पत्रकार वार्ता में आरोप लगाया कि चार साल से विभागीय पदोन्नति कमेटी की बैठक न होने के कारण कर्मचारियों की पदोन्नति नहीं हो रही है। इस कारण स्वास्थ्य विभाग में इस समय एक हजार के करीब पद खाली पड़े हुए हैं। इससे सभी कर्मचारी परेशान हें और मौजूद कर्मचारी काम के बोझ तले दबे हुए हें।

सूदन ने कहा कि कई बार स्वास्थ्य निदेशक जम्मू से मिलने के बावजूद विभागीय पदोन्नति का मुद्दा हल नहीं हो पाया है। इस मुद्दे को लेकर वे स्वास्थ्य एवं चिकित्सा शिक्षा विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव अटल ढुल्लू से भी मिले। उन्होंने स्वास्थ्य निदेशक को डीपीसी के लिए तिथि निर्धारित करने को कहा था। उन्होंने आरोप लगाया कि स्वास्थ्य निदेशक जानबूझ कर पदोन्नति करने में देरी कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य कर्मियों में स्वास्थ्य निदेशक के रुख को लेकर रोष है। उनके पास अब अपनी मांगों को पूरा करवाने के लिए आंदोलन करने के अलावा कोई भी विकल्प नहीं बचा है।

उन्होंने कहा कि अब सभी जिलों में एक-एक दिन धरना दिया जाएगा। यही नहीं 24 अगस्त को जम्मू चलो आंदोलन होगा। इसमें जम्मू संभाग के सभी कर्मचारी स्वास्थ्य निदेशालय में आकर धरना देंगे। पत्रकार वार्ता में जम्मू-क्श्मीर गवर्नमेंट फार्मासिस्ट एसोसिएशन के प्रधान चौधरी जरनैल सिंह, महासचिव कमलजीत साहनी, बेसिक हेल्थ वर्कर्स एसोसिएशन के प्रधान पवन सिंह, प्रफुलत सिंह, जसविंद्र सिंह, संजय सुबे, धर्मेंद्र सिंह और मदन लाल मौजूद थे।