जम्मू, राज्य ब्यूरो : कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामले के बीच स्वास्थ्य निदेशक कश्मीर डा. मुश्ताक अहमद राथर ने शनिवार को स्पष्ट किया कि घाटी के सभी अस्पतालों में कोविड और गैर कोविड गतिविधियां पहले की तरह ही जारी रहेंगी। उन्होंने कहा कि कश्मीर के मंडलायुक्त के साथ चर्चा करने के बाद यह फैसला किया गया। अस्पतालों में रुटीन की ओपीडी और सर्जरी भी अगले आदेश तक पहले की तरह ही जारी रहेंगी। आनेे वालेे दिनों में कोविड के मामलों की लगातार समीक्षा करने के बाद ही सर्जरी और ओपीडी बंद करनेे पर कोई फैसला होगा। उन्होंने सभी मुख्य स्वास्थ्य अधिकारी, चिकित्सा अधीक्षकों और बीएमओ से कोविड 19 प्रोटोकाल और दिशा निर्देशों का पालन करने को कहा।

इससे एक दिन पहले ही प्रदेश प्रशासन ने जीएमसी मेडिकल कालेज अस्पताल जम्मू और श्रीनगर व उनसे संबधित संस्थानों में आेपीडी सेवा और सामान्य सर्जरी को अगले आदेश तक स्थगित कर दिया है। इसके साथ ही सभी एमबीबीएस, नर्सिंग और पैरामेडिकल पाठयक्रम के अंतिम वर्ष के छात्रों की सेवाएं भी आवश्यकता अनुसार लेने का फैसला किया गया है। लेकिन श्रीनगर के स्वास्थ्य निदेशक के बयान से स्पष्ट हुआ कि जिला अस्पतालों में स्वास्थ्य सेवाएं फिलहाल पहले की तरह जारी रहेंगी।

स्वास्थ्य विभाग के अनुसार कोरोना संक्रमितों की लगातार बढ़ती संख्या काे देखते हुए श्रीनगर स्थित एसएमएचएस अस्पताल, बेमिना अस्पताल, शेरे कश्मीर आयुर्विज्ञान संस्थान व इनसे संबधित अन्य प्रमुख अस्पतालों के अलावा जम्मू संभाग में जीएमसी अस्पताल व उससे संबधित अस्पतालों में अगले आदेश तक ओपीडी सेवाएं बंद कर दी गई हैं। इसके अलावा सिर्फ घातक बीमारियों और आपात परस्थितियों में ही रोगियों के लिए सर्जरी सेवा उपलब्ध रहेगी।

अन्य प्रकार की सर्जरी भी फिलहाल बंद कर दी गई है। मंडलायुक्त कश्मीर पीके पाेले के आदेश के मुताबिक सभी प्राइमरी स्वास्थ्य केंद्रों और पंचायत कोविड केयर केंद्रों में सभी आवश्यक सुविधाएं उपलब्ध कराने, प्रत्येक जिले में दो ट्राइएज सेंटर स्थापित करने के अलावा महिला रोगियों और गर्भवती कोरोना पीड़ित महिलाओं के लिए अलग से कोविड वार्ड और बिस्तर उपलब्ध कराने को कहा।