जम्मू, जागरण संवाददाता। हरियाणा के बेटे ने कश्मीर की बेटी सिरिसा रैना से यहां जम्मू में विवाह रचाया। हालांकि सिरिसा का परिवार दशकों से जम्मू में ही रह रहा है। इस विवाह की खासियत यह रही कि वर-वधू ने सात के बजाय आठ फेरे लिए। आठवां फेरा 'बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ' के संकल्प के साथ लिया गया।

अनुच्छेद 370 हटने के बाद यह अनोखी शादी चर्चा का केंद्र बन गई है। वर संदीप कौशिक सोनीपत के राई क्षेत्र से भाजपा विधायक मोहन लाल के पुत्र हैं। सोमवार को जम्मू में आयोजित समारोह में एक ओर रिश्तों की डोर देश को जोड़ रही थी, वहीं इस शादी में लिया गया बेटी बचाओ का प्रण भी नई उम्मीद जगा रहा था। पूरे रीति-रिवाज के साथ संदीप कौशिक का जम्मू के तलाब तिल्लों में रहने वाली सिरिसा रैना (मूल रूप से कश्मीरी पंडित) से विवाह संपन्न हुआ।

संदीप ने कहा कि हम इस विवाह के माध्यम से बेटी बचाओ का संदेश देना चाहते थे। वधु पक्ष ने भी हमारे इस संकल्प की समझा। जम्मू कश्मीर में इस प्रथा को कायम करने में संदीप कौशिक ने अपना नाम दर्ज करवाया।

एरेंज मैरिज थी :

विधायक मोहल लाल ने बताया कि बेटे संदीप ने दीनबंधु छोटूराम विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी यूनिवर्सिटी मुरथल (सोनीपत) से 2014 में बीटेक किया था। सिरिसा ने भी बायो मेडिकल में बीटेक वहीं से की। सिरीसा यूनिवर्सिटी की 2014 की टॉपर भी रही थी। उस समय ही दोनों की जान पहचान हुई थी और परिवार वाले भी एक-दूसरे को जानते थे। इस जान पहचान को दोनों परिवारों ने रिश्तेदारी में बदलने का फैसला ले लिया।

अनुचछेद 370 के हटने के बाद जम्मू कश्मीर में बदलाव की बयार है। सरदार वल्लभ भाई का 'एक भारत श्रेष्ठ भारत' का सपना साकार हुआ है। अब खुशी की बात है कि हमारा परिवार जम्मू कश्मीर से विशेष रिश्ते में बंध गया।मोहन लाल, भाजपा विधायक, राई (सोनीपत)

Posted By: Preeti jha

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप