जम्मू, राज्य ब्यूरो । चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत ने शून्य से 35 डिग्री कम तापमान में पूर्वी लद्दाख की ऊंची चोटियों पर चीन के सामने डेरा डाले बैठे सैनिकों की पीठ थपथपा कर उन्हें कड़ी सतर्कता व बुलंद हौसले के साथ सरहदों की रक्षा करने की मुहिम जारी रखने के लिए कहा।

दो दिवसीय दौरे के दौरान जनरल रावत पूर्वी लद्दाख के ऐसे दुर्गम इलाकों में पहुंचे जो सुपर हाई अल्टीचूड एरिया की श्रेणी में आते हैं। इस दौरान उन्होंने वहां पर तैनात सेना के जवानों से भेंट कर उनकी जज्बे की सराहना की। सैन्य सूत्रों के अनुसार, इस दौरे के दौरान जनरल रावत ऐसे कुछ सैनिकों से भी मिले, जिन्होंने पूर्वी लद्दाख के ब्लैक टॉप समेत कुछ चोटियों को अपने कब्जे में लेकर भारतीय सेना को पूर्वी लद्दाख में रणनीतिक रूप से मजबूत कर दिया था।

पूर्वी लद्दाख के अग्रिम इलाकों के दौरे के दौरान चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ ने मंगलवार को सेना की उत्तरी कमान के फील्ड कमांडरों से क्षेत्र के सुरक्षा हालात, सेना की ऑपरेशनल तैयारियों व सुरक्षा संबंधी अन्य मुद्दों पर भी चर्चा की। इस दौरान उन्होंने पूर्वी लद्दाख के दुर्गम हालात में जवानाें के जीवन स्तर को बेहतर बनाने के लिए उठाए जा रहे कदमाें के बारे में भी जानकारी ली।

वहीं दिल्ली लौटने से पहले जनरल रावत ने लेह में सेना के चौदह कोर मुख्यालय में सेना के वरिष्ठ अधिकारियों से बैठक पूर्वी लद्दाख में सेना को मजबूत बनाने की मुहिम के साथ अन्य मुद्दों पर भी विचार-विमर्श किया। चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ दोपहर बाद दिल्ली के लिए रवाना हो गए। सोमवार को दो दिवसीय लद्दाख दौरे पर पहुंंचे जनरल रावत ने पूर्वी लद्दाख में सेना के साथ वायुसेना की ऑपरेशनल तैयारियों का भी निरीक्षण किया था। उनके साथ वायुसेना प्रमुख, एयर चीफ मार्शल आरके भदौरिया भी पूर्वी लद्दाख पहुंचे थे। मंगलवार को भी पूर्वी लद्दाख की उंचाइयों पर चीन के सामने सीना ताने खड़े सैनिकों का हौसला बढ़ाने पहुंचे।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021