श्रीनगर, राज्य ब्यूरो : सुरक्षाबलों ने गत शुक्रवार को बड़गाम में सक्रिय लश्कर-ए-तैयबा के नार्काे टेरेरिज्म माड्यूल का पर्दाफाश करते हुए इसके चार सदस्य गिरफ्तार किए हैं। इनके पास से तीन ग्रेनेड, असाल्ट राइफल की दो मैगजीन, 65 कारतूस और चार कारें और एक मोटरसाइकिल बरामद हुई है। यह वाहन नशीले पदार्थों पदार्थों की तस्करी से उगाही रकम से खरीदे गए थे। इनका इस्तेमाल आतंकी गतिविधियों में किया जा रहा है। अब यह वाहन बड़गाम और श्रीनगर में सक्रिय लश्कर-ए-तैयबा के आतंकियों की पैसे की जरूरत को पूरा किए जाने के लिए बेचे जाने थे।

पुलिस प्रवक्ता ने बताया कि बड़गाम में पुलिस ने सेना की 55 आरआर और सीआरपीएफ की 181वीं वाहिनी के जवानों के साथ मिलकर इस आतंकी माड्यूल के सदस्यों को पकडऩे के लिए अभियान चलाया था। अभियान के दौरान यूनिस मंजूर व महबूब अहमद को वाथूरा चाडूरा से पकड़ा गया। इसके अलावा इरशाद अहमद गनई को अरिगाम खानसाहब और मुजफ्फर अहमद को परनेवा खानसाहब से पकड़ा गया।

शुरुआती पूछताछ में इन चारों ने बताया कि उन्होंने लश्कर के लिए रकम जुटाने के लिए अपना एक नार्काे टेरेरिज्म माड्यूल बना रखा था। वह आतंकियों के लिए सुरक्षित ठिकानों, उनके हथियारों को एक जगह से दूसरी जगह पहुंचाने के अलावा सरहद पार से तस्करी कर लाए गए नशीले पदार्थों को कश्मीर और इसके बाहर पहुंचाते और बेचते थे। इससे उगाही का एक हिस्सा वह अपने लिए रखते थे और शेष रकम अपने हैंडलरों के निर्देश पर श्रीनगर और बड़गाम में सक्रिय लश्कर के आतंकियों तक पहुंचाते थे।

इन चारों ने बताया कि नशा तस्करी से ही उन्होंने चार वाहन वैगन आर- जेके16ए-5491, दो आल्टो 800-जेके1&जी-2&60 व जेके04जी-0524 और एक टाटा मोबाइल जेके12ए-&618 के अलावा एक मोटरसाइकिल जेके01एएच-8994 खरीदी है। इन वाहनों का इस्तेमाल वह अपने लिए और आतंकियों के लिए करते हैं। इन वाहनों को वह उसी समय बेचने थे, जब आतंकियों को पैसे की जरूरत होती और किसी अन्य स्रोत से इसका बंदोबस्त नहीं हो पाता था।  

Edited By: Vikas Abrol