जागरण संवाददाता, जम्मू : सीमांत क्षेत्रों में रह रहे युवाओं को राज्य पुलिस के साथ बतौर स्पेशल पुलिस ऑफिसर (एसपीओ) भर्ती करने के लिए इन दिनों डिस्ट्रक्ट पुलिस लाइन (डीपीएल) जम्मू में पहुंच कर युवा आवेदन पत्र जमा करवा रहे हैं। आवेदन पत्र जमा करवाने वाले युवाओं का इन दिनों वहां हुजूम उमड़ा हुआ है। केंद्रीय गृह मंत्रालय के आह्वान पर भारत-पाकिस्तान से लगती अंतर राष्ट्रीय सीमा और नियंत्रण रेखा से 10 किलोमीटर इलाके में रहने वाले युवाओं को राज्य पुलिस में भर्ती होने का मौका दिया गया है। बार्डर बटालियन के गठन के साथ सीमांत क्षेत्रों में रहने वाले युवाओं को एसपीओ भर्ती किया जा रहा है। केंद्र सरकार की इस पहल के तहत सीमांत क्षेत्रों में रहने वाले युवाओं से एसपीओ की भर्ती के लिए आवेदन मांगे गए थे। आवेदन जमा करवाने की अंतिम तिथि 22 अक्तूबर रखी गई है। एसपीओ भर्ती का युवाओं में जोश इस प्रकार है कि सुबह दस बजे आवेदन जमा करवाने के लिए जिला पुलिस लाइन के भीतर भेजा जा रहा, लेकिन युवा सुबह छह बजे ही जिला पुलिस लाइन के गेट पर पहुंच रहे है। एसपीओ के साथ ही कांस्टेबल भर्ती होने के इच्छुक उम्मीदवारों से भी आवेदन मांगे जा रहे है।

--------

बदइंतजामी पर भड़के युवा

आवेदन पत्र जमा करवाने के लिए आने वाले युवाओं ने यहां बदइंतजामी का आरोप लगाया है। नाम न छापने की शर्त पर युवाओं ने बताया वे अखनूर से लगातार दो दिन से जम्मू में आवेदन पत्र जमा करवाने के लिए आ रहे हैं। इसके बाद भी उनका आवेदन पत्र जमा नहीं हो पाया है। सुबह छह बजे जिला पुलिस लाइन के मुख्य गेट के बाहर कतार लगनी शुरू हो गई थी। चार घंटे वहां बैठने के बाद उन्हें भीतर प्रवेश करने दिया गया। अंदर पहुंचने पर उन्हें आधे घंटे तक वहां बैठाए रखा गया। सुबह 10:30 बजे आवेदन पत्र लेने के लिए पुलिस कर्मी पहुंचे। अभी करीब दस युवाओं ने अपने आवेदन पत्र जमा करवाए थे कि पिछले दरवाजे से कुछ लोग आए और वहां बैठे लोगों को फार्म जमा करवाने के लिए देकर चले गए। इसके बाद आवेदन जमा करवाने आए युवा घंटों अपनी बाकी के आने का इंतजार करते रहे, लेकिन उन्हें आवेदन जमा करवाने का मौका नहीं दिया गया।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप