जम्मू, श्रीनगर, जेएनएन। कश्मीर में घनी धुंध के कारण आज तीसरे दिन भी श्रीनगर एयरपोर्ट की उड़ानों को रद कर दिया गया। एयरपोर्ट प्रबंधन ने बताया कि धुंध के कारण दृश्यता बेहद कम रही, रोशनी का अभाव रहा जिसके कारण अभी तक की उड़ानों को रद कर दिया गया है। न तो कोई विमान उतरा और न ही यहां से रवाना हुआ। इसके कारण यात्रियों को परेशानियों से जूझना पड़ा। कई यात्री एयरपोर्ट पहुंच गए थे, जिन्हें वापस लौटना पड़ा। मौसम विभाग ने 11 दिसंबर से मौसम के फिर बदलने के आसार हैं। इस दौरान भारी बारिश और बर्फबारी की संभावना बनी हुई है।

यह लगातार तीसरा दिन है जब कश्मीर में घने कोहरे के कारण हवाई सेवा पर असर पड़ रहा है। शनिवार को श्रीनगर से उड़ने वाली सभी फ्लाइटों को रद कर दिया गया। जबकि उससे पहले शुक्रवार को भी इस कारण एयरपोर्ट पर सैकड़ों यात्री दरबदर होते रहे। यह लगातार दूसरा दिन था जब श्रीनगर से हवाई सेवा को ठप करना पड़ा। गत शनिवार को श्रीनगर से कुल 27 फ्लाइट रवाना होनी थी। इनमें कुछ फ्लाइट सेना के जवानों के लिए थीं। उससे एक दिन पहले यानी शुक्रवार को भी श्रीनगर से विभिन्न स्थानों पर जाने वाली 11 फ्लाइट को रद कर दिया गया था।

विस्तारा एयरवेज ने सभी यात्रियों से खराब मौसम के कारण श्रीनगर के लिए रद हुई फ्लाइयों के लिए श्रमा मांगते हुए कहा कि धुंध व पर्याप्त रोशनी न होने के कारण उन्हें आज दिल्ली से श्रीनगर जाने वाली यूके-611 फ्लाइट और श्रीनगर से दिल्ली रवाना होने वाली यूके-612 को रद करने की घोषणा की। वहीं इंडिगो एयरलाइन ने भी यात्रियों से एयरपोर्ट रवाना होने से पूर्व फ्लाइट से संबंधित जानकारी हासिल करने की सलाह दी। खराब मौसम के कारण फ्लाइट रद होने के कारण कई यात्रियों को परेशानी का भी सामना करना पड़ा।

बैंगलोर से पत्नी के साथ श्रीनगर हनीमुन के लिए जा रहे नीतिन ने कहा कि वह आज सुबह ही दिल्ली एयरपोर्ट पर पहुंचे। इन्हें यहां से श्रीनगर के लिए फ्लाइट लेनी थी परंतु यहां पहुंचकर पता चला की खराब मौसम के कारण श्रीनगर की सभी फ्लाइट रद कर दी गई हैं। खराब मौसम के कारण उनका सारा प्लाना बर्बाद हो गया। उन्होंने 13 दिसंबर को श्रीनगर से बैंगलोर के लिए फ्लाइट कर रखी थी। अब उन्हें श्रीनगर जाने का कार्यक्रम रद करना पड़ रहा है।

एयरपोर्ट अथारिटी आफ इंडिया के अधिकारियों ने कहा कि कोहरे के कारण सुबह भी सिर्फ 600 मीटर तक ही दिखाई दे रहा था। इसके बाद भी मौसम में कोई सुधार नहीं हुआ। कड़ाके की ठंड और शीतलहर ने कश्मीर ही नहीं, पूरे जम्मू कश्मीर के लोगों की परेशानियों को बढ़ा दिया है।

वहीं इस खराब मौसम के बीच भी जम्मू-श्रीनगर हाइवे खुला है परंतु सुबह धुंध के कारण हाइवे सहित अन्य मार्गों पर चलने वाले वाहनों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा। वाहनों की रफ्तार धीमी रही। इसके अलावा जिला पुंछ से कश्मीर को जोड़ने वाला एतिहासिक मुगल रोड भी एक तरफा वाहनों के लिए आज से खोल दिया गया है। डीसी शोपियां चौधरी मोहम्मद यासीन ने कहा कि वाहनों की आवाजाही से स्थानीय लोगों विशेषकर दोनों क्षेत्रों के व्यापारियों के समुदाय को राहत मिली है। उन्होंने बताया कि संबंधित विभाग को सड़क से बर्फ पूरी तरह हटाने व उसे पहुंची क्षति को जल्द ठीक करने के निर्देश दे दिए गए हैं। मरम्मत कार्य पूरा होते ही इस मार्ग पर दोनों और से वाहनों की आवाजाही शुरू कर दी जाएगी।

कश्मीर में तापमान के लगातार जमाव बिंदु से नीचे बने रहने के चलते शीत लहर के प्रकोप में कोई कमी नहीं आई है। मौसम विभाग ने अगले चौबीस घंटों क दौरान भी वादी में मौसम शुष्क रहने की संभावना जताई है। वादी में बीते कुछ दिनों से वादी में मौसम शुष्क बना हुआ है। 

कहां कितना रहा तापमान

श्रीनगर में अधिकतम तापमान 7.2 डिग्री सेल्सियस, जबिक न्यूनतम तापमान -3.6 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड किया गया। कारगिल जिले का द्रास सबसे ठंडा रहा। यहां शुक्रवार की रात माइनस 25.4 डिग्री सेल्सियस तक ठंडी रही। इसके पहले यह 24.3 डिग्री सेल्सियस था। जम्मू का न्यूनतम तापमान 8.5 डिग्री सेल्सियस, गुलमर्ग में न्यूनतम तापमान -5.6 और पहलागम में न्यूनतम तापमान -5.9 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड किया गया।

Posted By: Rahul Sharma

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस