जम्मू, राज्य ब्यूरो। जम्मू-कश्‍मीर के सांबा में पाकिस्तान की भारी गोलाबारी में शुक्रवार को सीमा सुरक्षा बल के एक जवान समेत पांच लोगों की मौत हो गई। गोलाबारी में सीमा प्रहरी समेत आधा दर्जन के करीब लोग घायल हैं। 

पाकिस्तान की भारी गोलाबारी से सीमांत क्षेत्रों में दहशत का माहौल बन गया है। एहितयात के तौर पर सीमा से सटे इलाकों में स्कूलों को बंद कर दिया गया है। सीमा सुरक्षा बल पाकिस्तान की गोलाबारी का कड़ा जवाब दे रही है। गोलाबारी प्रभावितों की सुध लेने के लिए जिला प्रशासन ने भी अभियान शुरू कर दिया है।

जम्मू-कश्‍मीर के सीमा पर लगातार हो रही गोलीबारी से दुखी जम्मू-कश्मीर के मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने ट्वीट कर रमजान के पवित्र महीने का कोई सम्मान ना कर ऐसी घटनाओं के लिए दुख जताया है।

देर रात को पाकिस्तान ने इन दो सीमांत जिलों में दो दर्जन से अधिक चौकियों व गांवों को निशाना बनाकर गोले दागने शुरू कर दिए। अरनिया के जबोवाल में गोलाबारी का जवाब दे रहे 192 बटालियन के सीता राम उपाध्याय पुत्र बृजनंदन उपाध्याय शहीद हो गए। वह झारखंड के गिरीदीह जिले के पालीगंज गांव के रहने वाले हैं। 

इस दौरान एक गोला आरएसपुरा के चंदू चक में गिरा जिससे क्षेत्र के निवासी तरसेम व उनकी पत्नी मंजीत कौर की मौत हो गई। वह जम्मू जिले के बिश्नाह के त्रेवा में मोर्टार शैल फटने से 60 वर्षीय सतपाल पुत्र अमरनाथ व जगमोहन पुत्र साधु राम का निधन हो गया। इस गोलाबारी में कई मवेशी मारे गए हैं व घरों को भी नुकसान हुआ है।

गोलाबारी में रामगढ़ में सीमा सुरक्षा बल का एएसआई, देसराज यादव, आरएसपुरा के जोड़ा फार्म में फारूक दीन, शामका गांव में प्यारा राम, अरनिया के त्रेवा में हरबंस लाल, रमन कुमार, राजेश कुमार घायल हो गए।

By Preeti jha