जम्मू. राज्य ब्यूरो। लद्दाख संसदीय सीट पर मतदान से चार दिन पहले लेह में संवाददाता सम्मेलन में भाजपा पर पत्रकारों को रिश्वत देने के मामले में लेह पुलिस ने एफआईआर दर्ज कर ली है। चीफ ज्यूडिशियल मजिस्ट्रेट के निर्देशों का अनुपालन करते हुए लेह पुलिस ने प्रदेश भाजपा के खिलाफ एफआईआर दर्ज की।

वीरवार को लेह की डिप्टी कमिश्नर अवनी लवासा ने जागरण से बातचीत में एफआईआर दर्ज किए जाने की पुष्टि की। लेह की डीसी लद्दाख संसदीय सीट की रिट्रनिंग अधिकारी भी है। उन्होंने इस संबंध में 3 मई को अपने तौर पर भी जांच के आदेश दिए थे, जिसमें लेह के पत्रकारों द्वारा भाजपा नेताओं पर लगाए गए आरोप प्रथम दृष्टया सही पाए गए थे।

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष रविन्द्र रैना ने लेह में दो मई को लद्दाख प्रभारी व एमएलसी विक्रम रंधावा के साथ संवाददाता सम्मेलन को संबोधित किया था। इसके अगले दिन लेह प्रैस कल्ब ने चार पत्रकारों को रिश्वत देने की कोशिश किए जाने का आरोप लगाते हुए दोनों नेताओं के खिलाफ एफआईआर लगाने की लिखित शिकायत की थी। इस संबंध में कार्रवाई करने के चीफ ज्यूडिशियल मजिस्ट्रेट के निर्देशों पर एफआईआर दर्ज कर ली गई।

प्रदेश अध्यक्ष रविन्द्र रैना व एमएलसी विक्रम रंधावा ने लेह प्रैस कल्ब के आरोपों को निराधार ठहराया है। रैना का कहना है कि इस मामले में जांच के लिए कमेटी बनाई जा रही है। उन्होंने कहा है कि उन्होंने लेह में पत्रकारों को रिश्वत नही दी है। पत्रकारों को 2 मई को लिफाफों में पैसे नही रक्षामंत्री के 4 मई के कार्यक्रम में निमंत्रण पत्र दिए गए थे। उन्होंने दावा किया कि वह इस संबंध में नारको टेस्ट करवाने के लिए भी तैयार हैं।

लेह में पत्रकारों को रिश्वत देने के मामले में एफआईआर दर्ज करने की मांग को लेकर प्रैस कल्ब ने 3 मई को लेह के एसएचओ को शिकायत सौंपी थी। इस संबंध में बाद में संवाददाता सम्मेलन की एक सीसीटीवी फुटेज भी वायरल हुई थी, जिसमें कुछ पत्रकारों को सफेद लिफाफे दिए जा रहे थे।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Rahul Sharma

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप