जम्मू, जागरण संवाददाता। सुहागिनों का सबसे पसंदीदा व महत्वपूर्ण त्योहार करवाचौथ अब कुछ दिन ही दूर रह गया है और महिलाएं त्योहार की तैयारियों में जुट चुकी हैं। क्या पहनना है और किसके साथ पहनना है, इसकी तैयारी में महिलाओं ने बाजारों की तरफ रुख कर लिया है। करवाचौथ पर्व वीरवार, 17 अक्टूबर को है। यही वजह है कि जम्मू के बाजारों में जबरदस्त रौनक दिखना शुरू हो गई है। महिलाओं में जहां सजने-संवरने के लिए उत्साह देखा जा रहा है, वहीं खरीदारी के लिए भी बाजारों में भारी भीड़ जुट रही है।

चूड़ियों-कपड़ों की दुकानों पर भी भारी भीड़, ब्यूटी पार्लर की बुकिंग शुरू

मेहंदी लगवाने का महिलाओं में बड़ा क्रेज है, चूड़ियों और कपड़ों की दुकानों पर भी भारी भीड़ नजर आ रही है। करवाचौथ में अभी एक सप्ताह शेष है, लेकिन पुराने शहर के बाजारों में महिलाओं में खरीदारी का उत्साह देखते ही बन रहा है। पुराने शहर के राज तिलक रोड, पुरानी मंडी, पटेल बाजार व साथ लगते इलाकों में दिन भर रौनक नजर आ रही है। यहां महिलाएं करवाचौथ के लिए जमकर खरीदारी कर रही हैं। इससे दुकानदारों के चेहरे भी खिले हुए हैं। करवाचौथ की खरीदारी के लिए दूर-दूर से महिलाएं पुराने शहर पहुंच रही है। महिलाओं को आकर्षित करने के लिए दुकानों में खूब सजावट के साथ उत्पाद प्रदर्शित किए गए हैं। इस समय सबसे अधिक भीड़ सूट, साड़ी व श्रृंगार की दुकानों पर दिख रही है। आर्टिफिशियल गहनों की भी बाजार में खूब ब्रिकी हो रही है। कपड़े लेने के लिए महिलाएं रेडीमेट गारमेंट को भी खासी तवज्जो दे रही हैं। करवाचौथ को देखते हुए ब्यूटी पार्लर में भी महिलाओं और युवतियों ने बुकिंग करवाना शुरू कर दी है।

कपड़ों की दुकानों पर उमड़ रही भारी भीड़

लेडीज टेलरिंग का काम करने वाले पुरानी मंडी के संजय कुमार का कहना है कि उनके पास काफी अधिक कपड़ों की सिलाई का काम है। करवाचौथ को देखते हुए दुकान में अतिरिक्त काम करना पड़ रहा है। पटेल बाजार में आर्टिफिशियल ज्वैलरी की दुकान चलाने वाले राकेश बताते है कि साल में अक्टूबर से दिसंबर तक काम में तेजी रहती है। पिछले महीनों काफी मंदी ङोली, अब कुछ ग्राहक आना शुरू हुए हैं। शादियां भी शुरू हो चुकी है, उम्मीद है कि अच्छी बिक्री होगी।

बाजार में मिट्टी के करवा भी आए

करवाचौथ पर करवा का आकर्षण बेहद खास होता है। इस करवाचौथ पर मिट्टी से बने करवा पर डिजाइनर लुक महिलाओं को काफी भा रही है। लाल, पीले रंग के बाद मोती की कढ़ाई करवा की खूबसूरती में चार चांद लगा रही है। करवाचौथ की थाली में करवा की सुंदरता महिलाओं को नयेपन का अहसास कराती है। बाजार में इस बार ऐसे करवा की धूम मची हुई है जो स्थानीय कारीगरों द्वारा तैयार किए जा रहे हैं। स्टील की थाली और छलनी पर मोती जड़े सुंदर कपड़े की तुरपाई से डिजाइनर लुक दिया जा रहा है। करवा सेट की थाली की कीमत 150-200 रुपये से लेकर 300-500 रुपये तक हैं। वहीं मिट्टी का करवा बीस रुपये से पचास रुपये तक उपलब्ध हो रहा है।

सुरक्षा के भी पुख्ता प्रबंध

पुराने शहर के बाजारों में खरीदारों की भारी भीड़ को देखते हुए सुरक्षा के पुख्ता प्रबंध किए गए हैं। सिटी चौक से लेकर पुरानी मंडी, राज तिलक रोड व लिंक रोड में खासतौर पर अतिरिक्त सुरक्षाकर्मियों की तैनाती की गई है। खरीदारों की इस भीड़ में अक्सर चोरी व झपटमारी की घटनाएं भी बढ़ जाती हैं, लिहाजा भीड़भाड़ वाले इन बाजारों में पुलिस कर्मियों की तैनाती की गई है जो लगातार इन बाजारों में गश्त कर रहे हैं।

हलवाई की दुकानों पर बनने लगीं मिठाइयां

फेनी-कतलमे के बिना करवाचौथ का त्योहार अधूरा है। यही कारण है कि हलवाइयों ने अभी से फेनी-कतलमे तैयार करना शुरू कर दिए हैं, ताकि आने वाले दिनों में मांग को पूरा किया जा सके। इन दिनों शहर में हर हलवाई फेनी-कतलमे तैयार कर रहा है लेकिन पुराने शहर में जल्ला फेनी वाला की दुकान पर खरीदारी शुरू भी हो गई है। कुछ लोग जम्मू से बाहर रहने वाली अपनी बेटियों व अन्य को विशेष रूप से यहां के फेनी-कतलमे भेजते हैं और यही कारण है कि एक सप्ताह पूर्व भी लोग फेनी-कतलमे खरीदते दिख रहे हैं। शहर में चंद हलवाई ही ऐसे है जो शुद्ध देसी घी में फेनी-कतलमे तैयार करते है। इनमें पहलवान दी हट्टी के बाद सबसे प्रमुख नाम इसी दुकान का है। करवाचौथ से करीब एक सप्ताह पूर्व यहां कतारें लगना शुरू हो जाती है और लोग घंटों इंतजार करके फेनी-कतलमे ले पाते हैं। आलम यह रहता है कि लोग सुबह-सवेरे दुकान खुलने से पहले ही बाहर कतार लगाकर खड़े हो जाते हैं। दुकान खुलने पर अपनी बारी के हिसाब से सामान लेते है और समय के साथ ही कतार लंबी होती जाती है। 

Posted By: Rahul Sharma

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप