श्रीनगर, एएनआई। जम्मू-कश्मीर के अनंतनाग जिले के वघामा इलाके में भारतीय सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़ जारी है। अभी तक की जानकारी के मुताबिक मुठभेड़ में दो आतंकी मारे गए हैं, फिलहाल सुरक्षाबलों ने एक और आतंकी के छिपे होने की आशंका के चलते तलाशी अभियान जारी रखा हुआ है, और दोनों ओर से फायरिंग की जा रही है। चिनार कॉर्प्स, भारतीय सेना के अनुसार मारे गए आतंकवादियों के पास से 1 इंसास राइफल और एक पिस्तौल बरामद की गई। कोई क्षति नहीं हुई है। ऑपरेशन पूरा हुआ। 

कश्मीर जोन पुलिस का कहना है कि जम्मू-कश्मीर पुलिस और सुरक्षाबलों ने वघामा में आतंकियों को घेर लिया है। दोनों ओर से फायरिंग जारी है। मुठभेड़ में दो आतंकी मारे गए हैं इसके साथ ही आस-पास के इलाके में सर्च ऑपरेशन चलाया जा रहा है। सुरक्षा बलों ने इस वर्ष सिर्फ जून माह में ही 44 आतंकी ढेर किए इस साल प्रदेश में अब तक 116 आतंकी मारे जा चुके हैं।

कश्मीर जोन पुलिस के अनुसार अनंतनाग के वाघामा इलाके में मुठभेड़ शुरू हो गया है। अनंतनाग के वघामा इलाके में मंगलवार सुबह सुरक्षाबलों को आतंकियों के छिपे होने की जानकारी मिली थी। जम्मू-कश्मीर पुलिस और सुरक्षाबलों ने वाघामा में आतंकियों को घेर लिया है। फिलहाल मुठभेड़ में दो आतंकी मारा गया हैं , सुरक्षाबलों ने एक और आतंकी के छिपे होने की आशंका के चलते तलाशी अभियान जारी रखा हुआ है।

आतंकमुक्त कश्मीर की ओर सुरक्षा बलों के तेज हुए कदम

सुरक्षाबल अब आतंकियों को खोज-खोजकर ढेर कर रहे हैं। आतंकियों को छिपने की जगह तक नसीब नहीं हो रही है। आतंकियों की मूवमेंट की सूचना मिलने के चंद घंटों में ही दहशतगर्दो का काम तमाम कर दिया जा रहा है। यह कश्मीर को आतंक मुक्त बनाने का अभियान है। सुरक्षा बलों की सफलता का अंदाजा इससे ही लगाया जा सकता है कि इस साल सिर्फ जून महीने में ही 44 आतंकी मारे गए हैं। इनमें सोमवार को दक्षिण कश्मीर में मारे गए तीन आतंकी भी शामिल हैं। इस वर्ष अब तक प्रदेश में 116 आतंकी मारे गए हैं।

बीते साल पहली जनवरी से अगस्त की समाप्ति तक 133 आतंकी मारे गए थे। जम्मू कश्मीर पुलिस ने कश्मीर में बीते पांच सालों से आतंकी हिंसा का गढ़ बने दक्षिण कश्मीर के चार जिलों को आतंकवाद से पूरी तरह मुक्त बनाए रखने का अभियान चला रखा है। इसके साथ ही प्रदेश के अन्य भागों में भी आतंकियों के खिलाफ अभियान निरंतर जारी हैं।

अधिकारियों ने बताया कि इस साल सबसे ज्यादा 44 आतंकी इसी जून माह के दौरान मारे गए हैं। इनमें से 36 आतंकी दक्षिण कश्मीर में ही मारे गए हैं। आठ आतंकी उत्तरी कश्मीर और मध्य कश्मीर में मारे गए हैं। इस माह मारे गए आतंकियों में 41 स्थानीय आतंकी हैं और दो पाकिस्तानी। एक आतंकी की पहचान नहीं हो पाई है। मारे गए 44 आतंकियों में हिजबुल मुजाहिदीन के 25, जैश ए मोहम्मद के आठ, लश्कर के सात, इस्लामिक स्टे के तीन और एक अन्य आतंकी के संगठन की पुष्टि नहीं हो पाई है।

आइजीपी कश्मीर विजय कुमार ने कहा कि हम कश्मीर को आतंकवाद मुक्त बनाने के अपने लक्ष्य की तरफ तेजी से बढ़ रहे हैं। आतंकियों को मार गिराना अंतिम विकल्प होता है। हमारा पूरा प्रयास रहता है कि आतंकियों को जिंदा पकड़ा जाए। हम उनके सरेंडर का पूरा प्रयास करते हैं। दक्षिण कश्मीर में अब गिने चुने आतंकी ही रह गए हैं। जल्द ही वह भी मारे जाएंगे या पकड़े जाएंगे। सेंट्रल कश्मीर और उत्तरी कश्मीर में भी आतंकरोधी अभियान तेज किए जा रह हैं। लोग अब खुलकर आतंकियों के खिलाफ सामने आ रहे हैं और सुरक्षाबलों का सहयोग कर रहे हैं।

Posted By: Preeti jha

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस