श्रीनगर, राज्य ब्यूरो। बडगाम में आज वीरवार सुबह आतंकियों द्वारा घात लगाकर किए सुरक्षाबलों पर किए गए हमले में सीआरपीएफ का एक असिस्टेंट सब इंस्पेक्टर शहीद हो गया। आतंकी उसकी राइफल भी अपने साथ ले गए हैं। इस बीच, दक्षिण कश्मीर के त्राल, पुलवामा में भी सुरक्षाबलों और आतंकवादियों के बीच मुठभेड़ चल रही है। यहां अभी तक सुरक्षाबलों ने एक आतंकी को मार गिराया है।

पुलिस ने बताया कि मारा गया आतंकी अल-बदर का है। उसकी पहचान कर ली गई है। उसका नाम इरफान अहमद डार निवासी गडिकाल के रूप में हुई है। वह इस साल 20 अगस्त को संगठन में शामिल हुआ था। पुलिस ने यह भी बताया कि आतंकी को आत्मसमर्पण करने का पूरा मौका दिया गया था। इसके लिए स्थानीय लोगों की मदद भी ली गई परंतु उसने आत्मसमर्पण करने से इंकार कर दिया।

फिलहाल अभियान जारी है। मुठभेड़ स्थल पर गोलीबारी थम चुकी है परंतु और आतंकियों की मौजूदगी की आशंका के चलते पुलिस की एसओजी टीम, सेना की 42 आरआर बटालियन के जवान तलाशी अभियान जारी रखे हुए हैं।

अवंतीपोरा के त्राल के मघामा इलाके में गुरुवार सुबह आतंकियों और सुरक्षाबलों के बीच एनकाउंटर शुरू हुआ। कश्मीर जोन पुलिस ने बताया कि सुरक्षाबलों के हाथ कामयाबी लगी है। एक आतंकी मारा जा चुका है। पुलिस और सुरक्षाबल डटे हुए हैं। बताया जा रहा है कि मुठभेड़ में दो से तीन आतंकी घेराबंदी में फंसे हुए हैं। 

कश्मीर जोन पुलिस के अनुसार जम्मू- कश्मीर में सुरक्षाबलों को बड़ी सफलता मिली है। सुरक्षाबलों ने मुठभेड़ में एक आतंकी को मार गिराने में कामयाबी पाई है। फिलहाल आतंकियों से मुठभेड़ जारी है। खुफिया एजेंसी को सूचना मिली थी कि अवंतीपोरा के त्राल इलाके के मचामा में आतंकी छिपे हैं, सूचना मिलते ही जम्मू-कश्मीर पुलिस और सुरक्षाबलों ने इलाके को घेर लिया। 

आतंकियों ने खुद को घिरा देख सुरक्षाबलों पर फायरिंग कर दी। जवाबी कार्रवाई में सुरक्षाबलों ने एक आतंकी मार गिराने में सफलता हासिल की है। एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि गोलीबारी में मारे गए आतंकवादी की पहचान अभी तक नहीं हो पाई है। पुलिस और सेना की 42 आरआर की संयुक्त टीम ने तलाशी अभियान चला रखा है। 

सीआरपीएफ के दल पर आतंकी हमला

सीआरपीएफ की 117 वाहिनी के जवानों का एक गश्तीदल आज सुबह चाडूरा बडगाम के कैसरमुला इलाके से गुजर रहा था। अचानक वहां खेतों के पास स्थित एक बाग में छिपे आतंकियों ने जवानों पर फायरिंग कर दी। इसमें एएसआई बडोले गंभीर रुप से घायल हो गया। अन्य जवानों ने अपनी पाेजीशन ली औेर जवाबी फायर किया। उन्होंने आतंकियाें की फायरिंग के बीच ही अपने घायल साथी को वहां से निकाल अस्पताल पहुंचाने का बंदोबस्त किया। करीब 10 मिनट तक दाेनों तरफ से फायरिंग होती रही। इसके बाद आतंकी वहां से भाग निकले। जाने से पहले आतंकी घायल सीआरपीएफ कर्मी की राइफल भी अपने साथ ले गए।

मुठभेड़ की सूचना मिलते ही निकटवर्ती शिविरों से पुलिस, सेना और सीआरपीएफ की अतिरिक्त टु़कड़ियां भी मौके पर पहुंच गई, लेकिन तब तक आतंकी वहां से भाग निकले थे। जवानाें ने मुठभेड़ स्थल के साथ सटे इलाकों में ही कहीं आतंकियों के छिपे होने की आशंका के चलते पूरे इलाके की घेराबंदी कर तलाशी अभियान चलाया है।

इस बीच, सीआरपीएफ के प्रवक्ता पंकज सिंह ने बताया कि घायल एएसआई को उपचार के लिए सेना के लिए 92 बेस अस्पताल में दाखिल कराया गया, जहां वह अपने जख्मों का ताव न सहते हुए चल बसे। स्थानीय सूत्रों की मानें तो बाग के पास एक मोटर साइकिल पर दो आतंकी देखे गए थे। उन्होंने सीआरपीएफ के दस्ते को देखते ही फायर कर दिया। वह शहीद सीआरपीएफ कर्मी की राइफल भी अपने साथ ले गए हैं।

बडगाम में बीडीसी चेयरमैन की हुई थी हत्या

बता दें कि जम्मू-कश्मीर के बडगाम जिले में बुधवार को आतंकियों ने एक बीडीसी सदस्य की घर के बाहर हत्या कर दी है। बीडीसी सदस्य कई दिनों बाद वापस घर आया था। इन दिनों वह सुरक्षा के बीच श्रीनगर में रह रहा था। पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि बडगाम जिले के खाग खंड के बीडीसी अध्यक्ष भूपिंदर सिंह को उनके पैतृक गांव दलवाश में आतंकवादियों ने रात करीब पौने आठ बजे गोली मार दी। उनकी मौके पर ही मौत हो गई। पुलिस अधिकारी ने कहा कि सिंह की सुरक्षा में दो सुरक्षा कर्मी तैनात किए गए थे।

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप