श्रीनगर, जेएनएन। दक्षिण कश्मीर के अनंतनाग में सुरक्षाबलों ने शनिवार को लश्कर-ए-तैयबा के कुख्यात आतंकी नासिर उर्फ शकील को मुठभेड़ में ढेर कर दिया। ए-श्रेणी के आतंकियों में सूचीबद्ध सात लाख का इनामी शकील आइईडी विशेषज्ञ था। वह आतंकियों को आइईडी तैयार करने का प्रशिक्षण भी देता था। मुठभेड़ के दौरान उसके अन्य दो साथी घेरा तोड़कर फरार हो गए। इसके अलावा सुरक्षाबलों ने अवंतीपोरा से लश्कर के ही एक ओवरग्राउंड वर्कर (ओजीडब्ल्यू) को भी पकड़ा है। पुलिस ने शनिवार सुबह सेना की 19 आरआर और सीआरपीएफ के जवानों के साथ लारनू में छिपे आतंकियों को पकड़ने के लिए सघन तलाशी अभियान चलाया। एक जगह छिपे आतंकियों को सुरक्षाबलों ने घेर लिया, लेकिन दहशतगर्दों ने घेराबंदी तोड़ भागने के लिए फायरिंग शुरू कर दी।

मुठभेड़ के दौरान सुरक्षाबलों ने कई बार सरेंडर करने को कहा, लेकिन आतंकी नहीं माने। करीब सवा घंटे बाद आतंकियों की ओर से फायरिंग बंद हो गई। इसके बाद जवानों ने मुठभेड़ स्थल की तलाशी ली तो वहां गोलियों से छलनी एक आतंकी का शव और हथियार मिले। कहा जा रहा कि उसके साथ दो और आतंकी भी थे जो भागने में कामयाब रहे। मारे गए आतंकी की पहचान लश्कर के कुख्यात आतंकी नासिर उर्फ शकील साहब उर्फ शाक भाई के रूप में हुई है। वह आइईडी विशेषज्ञ था और स्थानीय आतंकियों को हथियार चलाने और आइईडी बनाने का प्रशिक्षण देता था।

आतंकियों के लिए ठिकानों का बंदोबस्त करता था ओजीडब्ल्यू

सुरक्षाबलों ने शनिवार को लश्कर-ए-तैयबा के ओवरग्राउंड वर्कर हारिस शरीफ राथर को जाफरान कॉलोनी, पांपोर (अवंतीपोरा) से पकड़ा है। पुलिस के मुताबिक, वह आसपास के इलाकों में लश्कर के आतंकियों के लिए सुरक्षित ठिकानों का बंदोबस्त करता था। वह आतंकियों के लिए हथियारों को एक जगह से दूसरी जगह सुरक्षित पहुंचाने और सुरक्षाबलों की मुखबिरी भी करता था। उसके खिलाफ पांपोर पुलिस स्टेशन में एफआइआर दर्ज कर ली गई है।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस