श्रीनगर, जेएनएन। कश्मीर के अवंतीपोरा और शोपियां में आतंकवादियों और सुरक्षाबलों के बीच हो रही मुठभेड़ में अभी तक दो आतंकवादी मारे जा चुके हैं। सुरक्षाबलों ने एक आतंकवादी अवंतीपोरा जबकि एक आतंकी शोपियां में मार गिराया है। अवंतीपोरा में हालांकि मुठभेड़ आज तड़के शुरू हुई थी। सुरक्षाबलों ने यहां दोपहर तक एक आतंकवादी को मार गिराया था जबकि अन्य छिपे आतंकवादी मुठभेड़ स्थल से निकल गए थे। उनकी तलाश के लिए सुरक्षाबलों ने सर्च ऑपरेशन जारी रखा था। दोपहर बाद अवंतीपोरा में छिपे आतंकवादियों ने एक बार फिर सुरक्षाबलों पर गोलियां चलाना शुरू कर दी हैं। ये आतंकी पांपोर के मिज गांव की मस्जिद में छिपे हुए हैं। इनकी संख्या दो के करीब बताई जा रही है। सुरक्षाबलों ने मस्जिद की घेराबंदी कर ली है।

वहीं शोपियां में भी आतंकवादियों और सुरक्षाबलों के बीच हुई मुठभेड़ में भी एक आतंकवादी मार गिराया गया है। अन्य मुठभेड़ स्थल से फरार होने में सफल रहे। हालांकि सुरक्षाबलों ने आतंकियों की तलाश के लिए इलाके में सर्च ऑपरेशन चलाया हुआ है। डीजीपी पुलिस दिलबाग सिंह ने अवंतीपोरा और शोपियां मुठभेड़ों में दो आतंकवादियों के मारे जाने की पुष्टि की है। उन्होंने कहा कि आतंकवादियों के खिलाफ अभियान अभी जारी है। सुरक्षा कारणों की वजह से अवंतीपोरा और शोपियां में इंटरनेट सेवा बंद रखी गई है। इस माह के दौरान शोपियां में यह पांचवीं मुठभेड़ है।

पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार अवंतीपोरा में दोपहर बाद फिर से सुरक्षाबलों और आतंकवादियों के बीच मुठभेड़ शुरू हो गई है। आज तड़के शुरू हुई इस मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ने दोपहर तक एक आतंकवादी को मार गिराया था। उसके बाद गोलीबारी अचानक से बंद हो गई। आतंकवादियों की मौजूदगी की आशंका के चलते इलाके में सर्च ऑपरेशन जारी रखा। इस दौरान इलाके में छिपे अन्य आतंकवादियों ने सुरक्षाबलों को सामने देख फिर से गोलीबारी शुरू कर दी। जब सुरक्षाबलों ने जवाबी कार्रवाई की तो आतंकवादी वहां से निकलकर मिज गांव में स्थित मस्जिद में छिप गए हैं। इनकी संख्या दो के करीब बताई जा रही है। मस्जिद को कोई नुकसान न पहुंचे इस वजह से सुरक्षाकर्मी आतंकवादियों पर बड़ी कार्रवाई नहीं कर रहे हैं। हालांकि सुरक्षाबलों ने मस्जिद को घेर रखा है।

वहीं दक्षिण कश्मीर के जिला शोपियां के इमाम साहिब के बंदपावा गांव में कुछ लोगों द्वारा आतंकवादी देखे जाने की सूचना मिली। पुलिस, सेना की 44 आरआर और सीआरपीएफ की एक संयुक्त टीम ने इलाके की घेराबंदी करते हुए आतंकवादियों की तलाश शुरू कर दी। जैसे ही सुरक्षाबलों की संयुक्त टीम संदिग्ध स्थान की ओर बढ़ी छिपे हुए आतंकवादियों ने उन पर गोलीबारी शुरू की। ये आतंकवादी बाग में छिपे हुए थे। करीब एक घंटे तक दोनों   और से गोलियां चली। इस बीच एक आतंकवादी को मार गिराया गया। सुरक्षाबलों को अपने पर हावी होते देख आतंकी मौका पाकर वहां से फरार हो गए। इनकी संख्या भी दो बताइ जा रही है। उनकी तलाश के लिए सुरक्षाबलों ने अभियान चलाया हुआ है परंतु अभी तक फिर से मुठभेड़ शुरू होने की सूचना नहीं है। सुरक्षाबलों का कहना है कि उन्होंने पूरे इलाके की घेराबंदी कर रखी है, आतंकी गांव से बाहर नहीं जा सकते। वह अभी भी गांव में ही कहीं शरण लिए हुए हैं, उन्हें जल्द ही ढूंढ निकाला जाएगा।

सनद रहे कि अकेले शोपियां जिले में ही इस महीने आतंकवादी संगठनों के कई शीर्ष कमांडरों सहित 17 आतंकवादी मारे जा चुके हैं। अन्य विवरण प्रतीक्षारत है।

इससे पहले सुबह जम्मू-कश्मीर के अवंतीपोरा में सेना और आतंकियों के बीच हुई मुठभेड़ में एक आतंकवादी मारा गया था। कश्मीर जोन पुलिस के अनुसार यह मुठभेड़ अवंतीपोरा में पंपोर इलाके के मिज इलाके में हो रही थी। सुरक्षाबलों ने आतंकवादी को मार गिराने के बाद उसके शव को अपने कब्जे में ले लिया था। उसके पास से हथियार व गोलाबारूद भी बरामद हुआ। हालांकि अभी तक पुलिस ने उसकी पहचान जाहिर नहीं की है। परंतु वह स्थानीय बताया जा रहा है।

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले में सुरक्षा बलों और आतंकवादियों के बीच बृहस्पतिवार तड़के मुठभेड़ शुरू हो गई। पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि दक्षिण कश्मीर के पुलवामा के पंपोर इलाके के मिज में आतंकवादियों की मौजूदगी की सूचना मिलने के बाद आज सुबह सुरक्षा बलों ने इलाके की घेराबंदी कर तलाश अभियान शुरू किया। उन्होंने बताया कि आतंकवादियों के बल पर गोलीबारी करने के बाद तलाश अभियान मुठभेड़ में बदल गया। मुठभेड़ में एक आतंकी के मारे जाने की सूचना है। अधिकारी ने बताया कि गोलीबारी अभी जारी है और विस्तृत जानकारी की प्रतीक्षा है।

 

पाकिस्तान अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा है। संघर्षविराम का उल्लंघन कर आतंकियों को घुसपैठ कराने की नापाक कोशिशें कर रहा है। इसी क्रम में बांदीपोरा जिले के कोनन गांव में सुरक्षाबलों ने तलाशी अभियान शुरू किया। इलाके में आतंकियों के छिपे होने की सूचना है। इसी को देखते हुए सुरक्षाबलों की संयुक्त टीम ने यह अभियान शुरू किया था। समाचार एजेंसी के अनुसार मुठभेड़ अवंतीपोरा के पंपोर इलाके के मीज में हो रही है। सुरक्षाबल जवाब दे रहे हैं।

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले में गुरुवार को सुरक्षा बलों और आतंकवादियों के बीच मुठभेड़ हुई। पुलिस के एक अधिकारी ने कहा कि आतंकवादियों की मौजूदगी के बारे में विशेष जानकारी प्राप्त करने के बाद दक्षिण कश्मीर के पुलवामा के पंपोर इलाके में सेना द्वारा सुबह में एक तलाशी अभियान शुरू किया गया। उन्होंने कहा कि अभियान एक मुठभेड़ में बदल गया जब आतंकवादियों ने तलाशी अभियान कर रहे जवान पर पहले गोलीबारी की। गोलाबारी चल रही है और आगे के विवरणों की प्रतीक्षा की जा रही है। 

बारूदी सुंरग में विस्फोट से जवान घायल

जम्मू जिले के अखनूर इलाके के प्लांवाला में बुधवार को नियंत्रण रेखा के पास बारूदी सुरंग विस्फोट में सेना का एक जवान घायल हो गया। सैन्य सूत्रों के अनुसार अपने इलाके में बिछाई गई यह बारूदी सुरंग बारिश के कारण अपनी जगह से खिसक गई थी। ऐसे में छन्नी दवानो इलाके में पेट्रोलिंग के दौरान जवान का पैर इस पर पड़ गया और इसमें विस्फोट हो गया। चाायल सेना की पहचान सेना की असम रेजीमेंट के जवान गोललमोन के रूप में हुई है। उसका दायां पैर जख्मी हुआ है। उसे एयरलिफ्ट कर ऊधमपुर में सेना के कमान अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

आइजीपी का दावा दक्षिण कश्मीर में आतंकियों का लगभग सफाया

आइजीपी कश्मीर विजय कुमार ने दक्षिण कश्मीर में आतंकियों के लगभग सफाए का दावा करते हुए कहा कि अब हम उत्तरी कश्मीर को आतंकवाद मुक्त बनाने के लिए विशेष अभियान चलाएंगे। उन्होंने कहा कि इस साल अब तक वादी के भीतरी इलाकों में अलग-अलग अभियानों में सुरक्षाबलों ने हिजबुल मुजाहिदीन, लश्कर और जैश-ए-मोहम्मद समेत विभिन्न संगठनों के सभी प्रमुख कमांडरों समेत 94 आतंकियों को मार गिराया है।

आइजीपी ने कहा कि अब दक्षिण कश्मीर में सिर्फ गिने चुने आतंकी ही रह गए हैं। अधिकांश आतंकी मारे जा चुके हैं या अपनी जान बचाने के लिए अन्य इलाकों में भाग चुके हैं। उनके साथ आइजी सीआरपीएफ और सेना के वरिष्ठ अधिकारी भी मौजूद रहे।

अनंतनाग में बीते सप्ताह सरपंच अजय पंडिता के हत्यारों को चिन्हित करने का दावा करते हुए आइजीपी ने कहा कि उमर नामक एक आतंकी गत दिनों कुलगाम में हुई मुठभेड़ में मारा गया है। सरपंच के हत्यारों में वह भी शामिल था। उसके साथ मारा गया दूसरा आतंकी भी सरपंच की हत्या में शामिल रहा है। इस घटना से जुड़े अन्य तथ्यों की भी जांच की जा रही है। आइजीपी ने कहा कि कश्मीर में सक्रिय आतंकियों के पास अब हथियारों की भारी कमी है। इस साल हमने मारे गए आतंकियों से 25 एके-47 राइफलें बरामद की हैं। सरहद पर चौकसी के चलते आतंकियों को उनके आका हथियारों की आपूर्ति नहीं कर पा रहे हैं। सरहद पार बैठे उनके आका अब पंजाब के रास्ते हथियारों की तस्करी का प्रयास कर रहे हैं, लेकिन उसमें भी वह नाकाम साबित हो रहे हैं।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस