जम्मू, राज्य ब्यूरो। केंद्र शासित प्रदेश जम्मू कश्मीर में डेढ़ साल के लम्बे अंतराल के बाद शिक्षा पटरी पर आना शुरू हो गई है। कोरोना से हालात सामान्य होने के बाद सिलसिलेवार तरीके से शिक्षण संस्थान खोलने की तैयारी हो गई है। डिग्री कालेजों के अलावा पालीटेक्निक कालेज, आइटीआइ संस्थान भी नए अकादमिक सत्र से खुल जाएंगे।

श्री माता वैष्णो देवी विश्वविद्यालय में सोमवार से पढ़ाई शुरू हो गई। जम्मू विवि व कश्मीर विवि भी खुलने की तैयारी में है। बारहवीं व दसवीं कक्षा भी लगेगी। जम्मू कश्मीर में मार्च 2020 को शिक्षण संस्थान बंद हुए थे। उसके बाद से लगातार आनलाइन पढ़ाई हो रही है। हालात यहां तक पहुंचे थे कि दसवीं, ग्यारहवीं, बारहवीं कक्षा में मॉस प्रमोशन किया गया। दसवीं व बारहवीं कक्षा के कुछ पेपर हुए थे कि कोरोना संक्रमण के मामलों में बढ़ोतरी हो गई। कोरोना की दूसरी लहर आ गई। परीक्षाओं को स्थगित कर दिया गया। बाद में जम्मू कश्मीर बोर्ड आफ स्कूल एजूकेशन ने पहले हुए पेपरों के आधार पर मूल्यांकन करके परिणाम घोषित किया।

चूंकि इस समय डिग्री कालेजों में अंडर ग्रेजुएट के पहले सेमेस्टर की दाखिला प्रकिया चल रही है इसलिए कालेजों में कक्षाएं लगने में समय लगेगा। साइंस कालेज के प्रिंसिपल प्रो. रविंद्र टिक्कू जो नोडल अधिकारी भी हैं, ने कहा कि इस समय कालेजों में दाखिला प्रक्रिया चल रही है। जैसे की पंद्रह दिनों में दाखिला प्रक्रिया समाप्त होती है तो कालेजों में कक्षाएं लगा दी जाएगी। कालेजों में अधिकतर स्टाफ ने वैक्सीनेशन करवा ली है। अठारह साल से अधिक की आयु के विद्यार्थी भी वैक्सीनेशन करवा रहे है। उम्मीद है कि सौ फीसद वैक्सीनेशन का लक्ष्य पूरा हो जाएगा। कालेजों में कक्षाएं लगाने के लिए नियम जल्द ही जारी कर दिए जाएंगे।

वहीं दूसरी तरफ बारहवीं व दसवीं कक्षा लगाने की तैयारी भी चल रही है। इसके लिए पचास फीसद विद्यार्थियों को बुलाया जाना है। वैक्सीनेशन वाले विद्यार्थियों को ही बुलाया जाएगा। इस समय पालीटेक्निक कालेजों व आइटीआई संस्थानों में दाखिला प्रक्रिया चल रही है। अगले महीने कक्षाएं लगाने की तैयारी हो जाएगी। जम्मू विश्वविद्यालय में अभी पीजी कोर्स में दाखिले शुरू नहीं हुए हैं इसलिए विवि कैंपस में कक्षाओं को लगाने में एक महीने से अधिक का समय लगेगा। श्री माता वैष्णो देवी विश्वविद्यालय कटड़ा में आज सोमवार को कक्षाएं लग गई। करीब डेढ़ साल के बाद विद्यार्थियों को क्लास रूम में जाकर पढ़ाई का मौका मिला तो वर्कशाप में प्रेक्टिकल करने का मौका भी मिला। विद्यार्थियों में काफी उत्साह देखा गया। 

Edited By: Vikas Abrol