जागरण संवाददाता, जम्मू : रंगलीला नाट्य उत्सव में सोमवार को मुंशी प्रेमचंद के लिखे नाटक रसिक संपादक का मंचन अभिनव थियेटर में हुआ। नाटक ने दर्शकों का खूब मनोरंजन किया। नाटक को देख दर्शक लोटपोट हो गए।

इप्टा, मध्यप्रदेश की ओर से मंचित इस नाटक का निर्देशन वीना शर्मा ने किया। नाटक में भाग लेने वाले कलाकारों ने भी अपने पात्रों को बखूबी निभाया। नाटक रसिक संपादक नवरस में संपादक पंडित चोखेलाल की स्थिति को दिखाया है जिनकी पत्नी का देहांत हो गया है। पत्नी के देहांत के बाद वह रसिक हो जाते हैं। वह अपने पत्र में सिर्फ महिलाओं के लेख को ही महत्व देने लगते हैं जबकि पुरुष लेखकों के अच्छे लेख भी बिना पढ़े रद्दी में फेंक देते हैं। एक दिन चोखे लाल को एक ऐसी लेखिका की कविता मिली, जिसे पढ़कर वह रोमांचित हो उठे और उससे मिलने के सपने देखने लगते हैं। जब मिले तो मोटी महिला को देख संपादक का सारा रसिकपन समाप्त हो जाता है। नाटक के हर दृश्य ने दर्शकों को खूब गुदगुदाया। नाटक में संपादक की भूमिका निभा रहे कलाकार का अभिनय सराहनीय था।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप