जागरण संवाददाता, जम्मू : डोगरा सदर सभा की 114वीं वार्षिक जनरल काउंसिल बैठक में साफ कहा गया कि राज्य के तीनों संभागों के लोगों की सहमति से यहां के मसलों का निर्णायक हल हो जाना चाहिए। जो लोग पाकिस्तान जाना चाहते हैं, उनके लिए बार्डर खोल दिया जाना चाहिए ताकि राज्य में पाकिस्तान का राग बंद हो। प्रस्ताव पारित किया गया कि सदियों से चली आ रही दरबार मूव प्रक्रिया बंद हो। टेक्नोलॉजी के इस युग में इसका कोई महत्व नहीं है। जम्मू का सचिवालय जम्मू और कश्मीर का श्रीनगर में काम करे। जम्मू के लोगों को कश्मीर के दरबार मूव का कोई लाभ नहीं होता। हर वर्ष सैकड़ों करोड़ रुपये बर्बाद करने का कोई औचित्य नहीं है।

शिक्षक भवन गांधीनगर में आयोजित इस जनरल काउंसिल की अध्यक्षता डोगरा सदर सभा के अध्यक्ष गुलचैन ¨सह चाढ़क ने की। पूर्व लेफ्टिनेंट गवर्नर अंडमान निकोबार लेफ्टिनेंट जनरल भो¨पद्र ¨सह मुख्य अतिथि थे। कार्यक्रम में वीर नारियों, विशेष क्रिकेटर, जिन्होंने देश की टीम में खेल कर राज्य का नाम रोशन किया है, उन्हें सम्मानित किया गया। इस मौके पर डोगरा सदर सभा का ब्रोशर एवं वृतचित्र रिलीज किया गया। चाढ़क ने डोगरा सदर सभा के इतिहास पर संक्षिप्त प्रकाश डालते हुए कहा कि यह संस्था सभी धर्मो, जाति समुदाय के डोगरों को साथ लेकर चलती है। आपसी भाईचारा इस संस्था की पहचान है। राज्य की अमन शांति के लिए संस्था हमेशा तत्पर रही है।

डोगरा सदर सभा के अध्यक्ष ने कहा कि जम्मू के युवाओं में बेरोजगारी की समस्या बहुत बड़ी परेशानी है। उस पर से जिस तरह के घोटालों की बात राज्यपाल शासन में उठी है, उनकी निष्पक्ष जांच होनी चाहिए। इसके लिए जल्द जांच कमेटी बनाई जानी चाहिए। राज्य सरकार में नौकरियों के लिए चयन बेहद अनुचित और पक्षपातपूर्ण रहा है। राज्य भर में गैर-कश्मीरी भाषी क्षेत्रों के उम्मीदवार निराश हैं।

हर वर्ष पाकिस्तानी फाय¨रग में किसानों को भारी नुकसान होता है। सरकार की तरफ से सीमांत क्षेत्र के किसान की फसल का बीमा होना चाहिए, जिसका भुगतान सरकार करे। सीमावर्ती युवाओं के लिए समय-समय पर विशेष भर्ती अभियान चलना चाहिए। इस बात पर जोर दिया गया कि जम्मू को कश्मीर की तरह काशीर चैनल मिलना चाहिए। श्रीनगर दूरदर्शन और जम्मू दूरदर्शन केंद्र को बराबर फंड मिलने चाहिए। उन्होंने कहा कि डुग्गर चैनल को लेकर कार्य अंतिम चरण पर था लेकिन एनडीए के कार्यकाल में कोई कार्रवाई नहीं हुई। उल्टा जम्मू दूरदर्शन का प्रसारण समय कम करने के प्रयास किए जा रहे हैं। इसे सहन नहीं किया जाएगा। इस मौके पर जम्मू सचिवालय मार्ग बंद किए जाने का भी विरोध किया। चाढ़क ने कहा कि सुरक्षा व्यवस्था सचिवालय के अंदर जांची जा सकती है। सड़क मार्ग बंद कर लोगों की परेशानियां नहीं बढ़ाई जानी चाहिए। ऐतिहासिक मुबारक मंडी का जीर्णोद्धार कार्य तेज किया जाना चाहिए। पुरातत्व विभाग की फाइलें कला केंद्र से सूचना विभाग के पुराने कार्यालय में शिफ्ट होनी चाहिए। इन्हें सुरक्षित रखना अति आवश्यक है। निकाय और पंचायत चुनाव के बाद अब जल्द नंबरदारों और चौकीदारों के चुनाव भी करवाए जाने चाहिए। उनके वेतन बढ़ाए जाने चाहिए। जम्मू महोत्सव बड़े स्तर पर होना चाहिए। चाढ़क ने कहा कि जो संकल्प रखे गए हैं, उन्हें जल्द ज्ञापन के रूप में राज्यपाल को सौंपा जाएगा। इस मौके पर विदेशों में रह रहे डोगरों के संदेश भी पढ़े गए। सांस्कृतिक कार्यक्रम मनमोहक रहा।

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि पूर्व लेफ्टिनेंट गवर्नर अंडमान निकोबार लेफ्टिनेंट जनरल भो¨पद्र ¨सह ने डोगरा सदर सभा की सराहना करते हुए कहा कि इस तरह के कार्यक्रम समाज को मजबूत करते हैं। कार्यक्रम में कई गणमान्य लोग उपस्थित थे। मंच संचालन रविकांत ने किया।

Posted By: Jagran