जम्मू,राज्य ब्यूरो । नेशनल मेडिकोज आर्गेनाइजेशन ने शनिवार को ऋषि कश्यप स्वास्थ्य सेवा यात्रा आयोजित की। इसको जम्मू के मंडलायुक्त डा. राघव लंगर ने हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। पांच दिवसीय इस यात्रा में सीमांत क्षेत्रों में मेडिकल और कोविड जागरूकता कैंप आयोजित किए जाएंगे। पांच दिनों के इस अभियान में दो सौ डाक्टर और पैरामेडिकल स्टाफ 105 मेडिकल कैंप और कोविड जागरूकता कैंप आयोजित करेगा। पुंछ से कठुआ तक जम्मू संभाग के सभी सीमांत क्षेत्रों में यह कैंप आयोजित होंगे। इसका मुख्य मकसद सीमांत क्षेत्रों के लोगों को उनके द्वार पर स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध करवाना है। कैंप में लोगों के दवाइयां, निशुल्क ब्लड शूगर जांच, ब्लड प्रेशर जांच होगी। लोगों को तीसरी लहर से बचने के लिए भी जागरूक किया जाएगा।

नेशनल मेडिकोज आर्गेनाइजेशन में देश भर के डाक्टर, मेडिकल विद्यार्थी है। इसका मकसद इस वर्ष जम्मू कश्मीर और लद्दाख दोनों ही केंद्र शासित प्रदेश के लोगों को कोविड से बचाना है। यह आर्गेनाइजेशन झुग्गियों में रहने वालों, जनजातिय लोगों को मदद देना है। यह आर्गेनाइजेशन जम्मू-कश्मीर में गत सात साल से ऋषि कश्यप स्वस्थ यात्रा के तहत कैंप आयोजित कर रही है।

इस संगठन के साथ जुड़़े सभी डाक्टरों व पैरामेडिकल स्टाफ को मंडलायुक्त ने झंडी दिखाकर विभिन्न स्थानों में भेज दिया। मंडलायुक्त ने संगठन के प्रयासों की सराहना की। उन्होंने कहा कि दूरदराज और सीमांत क्षेत्रों मेंकैंप आयोजित होने से लोगों को स्वास्थ्य संबंधी जानकारियां मिलेंगी। उन्होने जम्मू-कश्मीर में सेवा देने के लिए विभिन्न राज्यों से आए डाक्टरों की सराहना की। उन्होंने कोविड की पहली और दूसरी लहर में मरीजों की सेवा करने के लिए डाक्टरो की सराहना की। कैंप डा. सतीश मिदा प्रधान नेशनल मेडिकल आर्गेनाइजेशन की देखरेख में हो रहा है। वाराणसी से डा. विशंभर सिंह, डा. सच्चिदानंद, डा. सुमित सभ्रवाल, डा. सोनी सिंह संब्याल, डा. रचना सभ्रवाल, डा. दीपक कुमार और डा. संदीप डोगरा भी मौजूद थे।

Edited By: Vikas Abrol