जम्मू, एएनआई। जम्मू और कश्मीर में पिछले महीने सरकार ने आर्टिकल 370 को निरस्त कर दिया था। इसके बाद राज्य में कई प्रतिबंध लगाए गए थे। हालांकि, प्रशासन धीरे-धाीरे सभी प्रतिबंधों को हटाने में लगा हुआ है।  जम्मू और कश्मीर में चिकित्सा विभाग में दवाइयों की कमी को लेकर उठाए जा रहे सवालों पर राज्य प्रशासन ने चुप्पी तोड़ी है। सूचना और जनसंपर्क विभाग ने आगे आकर सफाई पेश की है। दवाइयों में किसी भी प्रकार की कमी न हो, यह सुनिश्चित करने के लिए औषधि और खाद्य नियंत्रण संगठन खुदरा दुकानों का नियमित सर्वेक्षण कर रहा है। जम्मू और कश्मीर सरकार की डीआईपीआर विभाग ने कहा कि घाटी में दवाओं और अन्य चिकित्सा उत्पादों का पर्याप्त भंडार है।

जानकारी हो कि जम्मू और कश्मीर सरकार के डीआईपीआर विभाग ने जानकारी दी है। डीआईपीआर विभाग ने कहा है कि कश्मीर क्षेत्र में आवश्यक दवाओं, अन्य चिकित्सा उत्पादों की कोई कमी नहीं है। 20 जुलाई से अब तक घाटी में वितरकों को लगभग 50 करोड़ रुपये की दवाएं दी गई हैं। डीआईपीआर विभाग ने कहा कि प्रमुख दवा निर्माण कंपनियां बिना किसी विराम के अपनी सेवाएं जारी रखी हुईं हैं। वे नियमित रूप से दवाएं प्रदान कर रही हैं।

विभाग ने कहा कि विशेष श्रेणी के तहत आने वाली दवाइयों की आपूर्ति में भी लापरवाही नहीं बरती गई है। बड़ी बीमारियों की दवाइयां व अन्य चिकित्सा उत्पादों की नियमित आपूर्ति प्रदान की गई है।

Posted By: Preeti jha

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस