जम्मू, जागरण संवाददाता । पीडब्ल्यूडी विभाग के ठेकेदारों ने विभाग में व्यापक स्तर पर भ्रष्टाचार होने का आरोप लगाते हुए सीबीआइ या एंटी करप्शन ब्यूरो से विभाग की ओर से जारी किए जा रहे टेंडरों की जांच करवाने की मांग की है।

कांट्रेक्टर्स एसोसिएशन ने आरोप लगाया है कि विभाग के सुपरींटेंडेंट इंजीनियर सुमित पुरी इस भ्रष्टाचार काे बढ़ावा दे रहे हैं और उनकी छत्रछाया में विभाग में टेंडर जारी करने के नाम पर कमीशन लेने का गौरखधंधा चल रहा है।एसोसिएशन के प्रधान शाम सिंह व महासचिव विनोद कोहली ने अन्य पदाधिकारियों की मौजूदगी में शनिवार को एक पत्रकार वार्ता के दौरान यह आरोप लगाए।विभाग की ओर से टेंडर जारी करने की प्रक्रिया पर सवाल खड़े करते हुए इन पदाधिकारियों ने कहा कि हाल ही में विभाग ने दो ई-टेंडर आमंत्रित किए थे। इनके तहत 14 व 13 कार्य होने थे।

इन दोनों टेंडरों में पांच ठेकेदार योग्य पाए गए और पांच जून 2021 को सुपरींटेंडेंट इंजीनियर ने बिना वित्तीय विभाग के सदस्य की मौजूदगी में टेंडर खोले और अपने चहेते ठेकेदारों को अलाट कर दिए जोकि उक्त कार्य करने के लिए योग्य भी नहीं थे। उन्होंने कहा कि सुपरींटेंडेंट इंजीनियर ने अपने तीन सदस्यों की कमेटी बनाई है जो अपनी मनमर्जी से टेंडर जारी कर रही है।

उन्होंने कहा कि सरकारी आदेश में स्पष्ट है कि टेंडर खोलते समय वित्तीय विभाग का अधिकारी मौजूद होना चाहिए लेकिन उसके बिना ही विभाग में टेंडर जारी हो रहे हैं।एसोसिएशन के पदाधिकारियों ने आरोप लगाया कि ये अधिकारी अपने चहेते ठेकेदारों को फर्जी प्रमाण पत्र देकर उन्हें टेंडर जारी कर रहे हैं। एसोसिएशन ने इस पूरे मामले की सीबीआई या एंटी करप्शन ब्यूरो से जांच करवाने की मांग की।- 

Edited By: Vikas Abrol