संवाद सहयोगी, आरएसपुरा : पिछले दिनों बारिश और ओलावृष्टि से बर्बाद हुई धान और सब्जियों की फसल की भरपाई की मांग को लेकर मंगलवार को तारा चक के किसानों ने प्रदर्शन कर अपनी चिंता जाहिर की। प्रदर्शनकारी किसानों ने कहा कि जल्द से जल्द नुकसान का आकलन किया जाए ताकि मुआवजा देने में देरी न हो।

आरएसपुरा के गांव तारा चक के किसानों ने नारेबाजी करते हुए प्रदेश प्रशासन तक अपनी पीड़ा पहुंचाने का प्रयास किया। किसानों ने कहा कि इस ओलावृष्टि ने उनकी फसल को सौ फीसद समाप्त कर दिया है। ऐसे में खेतों में बची फसल को समेटने के लिए पैसा चाहिए जो किसानों के पास नहीं है। पूर्व पंच राज कुमार, देस राज, सरदारी लाल, रोहित कुमार, राजू ¨सह, काका राम, गारू राम ने बताया कि ओलावृष्टि ने किसानों की कमर तोड़ कर रख दी है।

प्रभावित किसानों ने बताया कि धान की फसल लगाने के लिए उन्होंने दस हजार प्रति कनाल खर्च कर चुके हैं, पर मौसम कि मार ने उनकी मेहनत पर पानी फेर दिया है। ऐसे में किसानों को अब खेतों में बची फसल को समेटने के लिए पैसे नहीं हैं। उन्होंने कहा कि ऐसे में सरकार को चाहिए कि किसानों के नुकसान का जल्द से जल्द आकलन कर मुआवजा जारी करे। किसानों ने सरकार से मांग की है कि कम से कम पांच हजार प्रति कनाल मुआवजा किसानों के लिए सरकार मंजूर करे।

उल्लेखनीय है कि बीते शनिवार को हुई तेज हवाओं के साथ हुई बरसात व ओलावृष्टि से उपजिले आरएसपुरा में धान की फसल को भारी नुकसान पहुंचाया है। कृषि विभाग निदेशक केके शर्मा का कहना है कि विभाग की टीमें राजस्व विभाग के साथ नुकसान का आंकलन करने में जुट गए हैं।