जागरण संवाददाता, जम्मू : पिछले तीन दिन से जम्मू के अभिनव थियेटर में चल रहे लोक संगीत समारोह पूर्वोत्तर धारा का समापन हो गया। पूर्वोत्तर सहित देश के बारह राज्यों से आए कलाकारों ने इस तीन दिवसीय समारोह में अपने-अपने राज्य के लोक संगीत एवं नृत्यों के माध्यम से अपनी लोक संस्कृति से लोगों को रूबरू करवाया और अपने बेहतरीन प्रदर्शन से समारोह को यादगार बना दिया।

समारोह का आयोजन संगीत नाटक अकादमी ने जम्मू कश्मीर कला, संस्कृति एवं भाषा अकादमी के सहयोग से करवाया था। रविवार को समापन समारोह में लिएंडा फोल्क एंड क्लासिकल एकेडमी मणिपुर के कलाकारों ने कवि जयदेव की कविता गीत गो¨वदम पर आधारित मंगलाचरण पर प्रस्तुति दी। इसके बाद कलाकारों ने गीत गो¨वद कविता के ही पहले सर्ग वसंत धर्णम को पेश किया। इसके अलावा असम के दीपन दास और उनके ग्रुप की ओर से बीहू नृत्य पेश किया गया तो अभिनव थियेटर में मौजूद दर्शकों ने भी उसका खूब आनंद लिया।

कलाकारों के नृत्य और लोक संगीत की इस जुगलबंदी ने दर्शकों का खूब मनोरंजन किया। लोक परिधानों में सजे कलाकारों ने अपनी प्रस्तुति से सबका मनमोह लिया। अरुणाचल, राजस्थान के कलाकारों ने भी धूम मचाई समापन के मौके पर अरुणाचल प्रदेश के पुरुष कलाकारों ने टापू डांस पेश किया। माना जाता है कि इस नृत्य को गांव से बुरी आत्माओं को दूर करने के लिए किया जाता है और इसे एक विशेष उत्सव पर ही लोग करते हैं।

समारोह में गुजरात के सबीर कमाल सिद्धि और उनके ग्रुप की ओर से भी सिद्धि धमाल नृत्य पेश किया गया। समारोह में आखिरी प्रस्तुति राजस्थान के खेते खान ने दी और उनकी आवाज को ऐसा जादू चला कि पूरा सभागार ही उनका दीवाना हो गया।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस