जम्मू, जागरण संवाददाता । क्राइम ब्रांच जम्मू ने जियोलॉजी एंड माइनिंग डिपार्टमेंट में हुए 33,03,447 रुपये के जनरल प्रोविडेंट फंड (जीपीएफ) घोटाले के मामले में विभाग के ड्राइंग एंड डिसबर्सिंग ऑफिसर (डीडीओ) एजाज अमीर और कैशियर रोहिन नंदा के विरुद्ध मामला दर्ज किया है।

क्राइम ब्रांच प्रवक्ता के अनुसार, जम्मू कश्मीर उद्योग और वाणिज्य विभाग की ओर से उन्हें एक पत्र मिला। जिसमें यह कहा गया कि डायरेक्टर जियोलॉजी एंड माइनिंग डिपार्टमेंट में जीपीएफ घोटाला हुआ है। शिकायत के तहत विभाग में तैनात ड्रिल ऑपरेटर शिवन लाल भट्ट ने अपने जीपीएफ निकालने के लिए विभाग में फरवरी 2020 में आवेदन दायर किया था। 14 मार्च 2020 को उन्हें विभाग से प्रोविडेंट फंड निकालने की मंजूरी दे दी थी। 19 मार्च 20 20 को यह सूचना मिली की उनके बैंक खाते में 17 लाख रुपये ट्रांसफर हुए हैं। उन्होंने जब अपने बैंक खाते की जांच की तो उसमें यह रुपये नहीं आए थे।

जीपीएफ के रुपयों को अपने निजी बैंक खाते में जमा करवाया 

भट्ट ने ट्रेजरी में जाकर जब इस मामले की जांच की तो उन्हें पता चला कि जीपीएफ के पैसे ड्राइंग एंड डिसबर्सिंग ऑफिसर के बैंक खाते में जमा हुए हैं। विभागीय जांच की तो पता चला कि कुछ अधिकारियों ने मिलीभगत कर विभाग के कर्मचारियों के जीपीएफ के रुपयों को अपने निजी बैंक खाते में जमा करवाया है। इस तरह से उन्होंने 33,03,447 रुपये से अधिक का जीपीएफ घोटाला किया है। शिकायत पर क्राइम ब्रांच ने जांच शुरू कर दी। सबूतों को जुटाने के बाद क्राइम ब्रांच ने मामला दर्ज कर लिया।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021