जम्मू, जागरण संवाददाता: कोविड-19 टीकाकरण को लेकर बुजुर्गो में विशेष उत्साह दिख रहा है ।बुजुर्ग खुद तो पूरे अनुशासन के साथ टीकाकरण करवा ही रहे हैं। दूसरों को भी टीकाकरण के लिए प्रेरित करते दिख रहे हैं ।

टीकारण के लिए आई दमयंती जागृति क्लब की संस्थापक कलावती ने जागरण से बात करते हुए कहा कि उन्होंने आजादी से पहले वह दौर भी देखा है जब चेचक और पोलियो की वजह से लोगों की जान चली जाती थी ।लोग अपंग हो जाते थे ।आजादी के बाद भारत ने इन दो गंभीर बीमारियों से लड़ने में दुनिया को राह दिखाई।

चेचक वो गंभीर बीमारी थी ।जिसकी वजह से जो मौतें हुईं वो दुनिया की सारी लड़ाइयों में हुई मौतों से भी ज़्यादा थीं। आज बहुत दुख होता है, जब हम सुनते हैं कि लोग कोरोना से बचाव का टीका लगाने से संकोच कर रहे हैं ।भारत में बने टीके के बारे में गलत अफवाह फैला रहे हैं ।यह बहुत गलत बात है ।सरकार आपकी है और हमें अपने आप को खुशकिस्मत समझना चाहिए कि सरकार यह टीका देशभर में मुफ्त उपलब्ध करा रही है।

हमें इसका लाभ उठाना चाहिए ।जैसे मैंने इंजेक्शन लगाया है ।आपको भी इंजेक्शन लगवाना चाहिए और खुद को अपने परिवार को और अपने पूरे देश को कोरोना के खतरे से बचाना है। इसी में हम सभी की भलाई है। बुजुर्ग घर परिवार के लोगों को शारीरिक दूरी बनाने और मास्क लगाने की नसियत तो दे ही रहे हैं।

घर के बाहर भी लोगों को कोरोना से बचने की सावधानियों से अवगत करवाते रहते हैं। बुजुर्ग शीला जम्वाल ने कहा कि एक दूसरे से समझाने से ही कोरोना का बचाव संभव है। सब से पहले हमें हर बात के लिए सरकार पर निर्भर रहने की आदत बदलनी होगी। जितने ज्यादा नागरिक जागरुक होंगे ।उतना ही हम किसी भी बीमारी पर जल्द विजय पाने में सफल होंगे। 

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021