जम्मू, राज्य ब्यूरो: डिप्टी कमिश्नर श्रीनगर ने कम टीकाकरण होने पर दो जोनल मेडिकल आफिसर्स के वेतन पर रोक लगा दी है। इससे डाक्टरों में नाराजगी है। डाक्टर्स एसोसिएशन कश्मीर का कहना है कि दिन रात मेहनत करने का प्रशासन ने डाक्टरों कोे यह सम्मान दिया है।

डिप्टी कमिश्नर श्रीनगर ने खनयार और एसआर गुंज के जोनल मेडिकल आफिसर्स के वेतन पर रोक लगा दी है। दोनों ही क्षेत्रों में कम टीकाकरण हुआ है। वहीं डाक्टर्स एसोसिएशन के प्रधान डा. मोहम्मद युसूफ टाक ने कहा कि महामारी के दौरान डाक्टरों ने अपनी जान की परवाह किए बगैर दिन रात काम किया। उन्होंने कहा कि डाक्टरों का वेतन रोकने का आदेश दुर्भाग्यपूर्ण है। इसका असर उनके मनोबल पर पड़ता है।

श्रीनगर जिले के प्रधान डा. बशारत शाह ने भी डिप्टी कमिश्नर के आदेश को दुर्भाग्यपूर्ण करार दिया। उन्होंने कहा कि सीमित संसाधन होने के बावजूद डाक्टर अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन दे रहे हैं। लेकिन अपनी खामियों का ठीकरा प्रशासन डाक्टरों पर फोड़ रही है। एसोसिएशन के महासचिव डा. आवेस डार ने कहा कि डाक्टर बार-बार लोगों से यह अनुरोध कर रहे हें कि वे टीकाकरण के लिए आगे आएं। टीकाकरण से ही संक्रमण से बचा जा सकता है। डाक्टरों ने घर-घर जाकर भी टीकाकरण अभियान शुरू करवाया है। डाक्टरों के पास लोगों से जबरदस्ती करने का कोई अधिकार नहीं है।

डाक्टर्स एसोसिएशन ने स्वास्थ्य एवं चिकित्सा शिक्षा विभाग के वित्तिय आयुक्त और कश्मीर के डिवीजनल कमिश्नर से इस मामले में हस्तक्षेप कर आदेश वापस लेने की मांग की है।

Edited By: Rahul Sharma