जागरण संवाददाता, जम्मू : उपराज्यपाल जीसी मुर्मू ने जम्मू रेलवे स्टेशन और शहर के प्रमुख बाजारों का दौरा कर लॉकडाउन में हटाई गई पाबंदियों का जायजा लिया। सर्वप्रथम उप राज्यपाल जम्मू रेलवे स्टेशन पहुंचे। वहां उन्होंने जम्मू कश्मीर में फंसे दूसरे राज्यों के मजदूरों के बारे में जानकारी हासिल की। अधिकारियों ने उन्हें हाल ही में विशेष ट्रेनों से जम्मू पहुंचे लोगों के बारे में भी जानकारी दी। उपराज्यपाल के साथ जम्मू की डिप्टी कमिश्नर सुषमा चौहान भी थीं। राज्यपाल ने निर्धारित समय में कोरोना सैंपल रिपोर्ट मरीजों को उपलब्ध करवाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि रिपोर्ट आने में देरी नहीं होनी चाहिए। गौरतलब है कि इस माह कई ऐसे मामले सामने आए हैं, जब क्वारंटाइन सेंटर में भर्ती लोगों ने कोरोना सैंपल रिपोर्ट देर से मिलने का आरोप लगाया। ऐसे में राज्यपाल के निर्देश के बाद प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग पर दबाव बनना तय है।

सुषमा ने उपराज्यपाल को दूसरे राज्यों से लौटे लोगों की सैंपलिग प्रक्रिया के बारे में जानकारी दी। उन्होंने बताया कि विभिन्न स्तर पर नोडल ऑफिसरों की नियुक्ति की गई है। अभी तक 9000 यात्री विशेष ट्रेनों से जम्मू लौटे हैं। औसतन 900 यात्री प्रत्येक ट्रेन से जम्मू रेलवे स्टेशन पहुंचे हैं। उप राज्यपाल ने निर्देश दिए कि कोरोना के कारण सभी स्टैंडर्ड ऑपरेटिग प्रोसीजरों का सख्ती से पालन किया जाए। कोई भी यात्री स्टेशन पर रेल पकड़ने या बाहर से आता है, तो उसकी सैंपलिग होनी चाहिए और उसे उसके जिला गृह प्रवेश तक पहुंचाने में सभी एहतियात बरते जाने चाहिए। मुर्मू ने सभी यात्रियों को सैनिटाइजरों और मास्क उपलब्ध करवाने की आवश्यकता पर बल दिया। उन्होंने रेलवे स्टेशन को समय-समय पर सैनिटाइज करने को भी कहा। उप राज्यपाल ने पीपीई किट के इस्तेमाल की बात कही और इस्तेमाल के बाद इसके सही ढंग निस्तारण के बारे में निर्देश दिए। उन्होंने सभी यात्रियों को भोजन उपलब्ध करवाने के दौरान उन्हें कूलर-पंखे आदि की सहूलियत देने के बारे में भी कहा। इस मौके पर एडीजीपी रेलवे दीपक कुमार, एसएसपी जम्मू शैलेंद्र पाटिल, एसएसपी रेलवे आरिफ रिशु और रेलवे व प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस