जम्मू, राज्य ब्यूरो। प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रधान जीए मीर सहित अन्य वरिष्ठ नेताओं को नजरबंद किए जाने के मुद्दे पर पार्टी ने भाजपा को घेरने की पूरी तैयारी कर ली है। कांग्रेस ने नेताओं की नजरबंदी के लिए भाजपा की केंद्र सरकार के प्रति कड़ा आक्रोश जताया है। गत दिवस कश्मीर जाने से पहले ही प्रशासन ने कांग्रेस के प्रदेश प्रधान जीए मीर, पूर्व उपमुख्यमंत्री ताराचंद, पूर्व मंत्री रमण भल्ला को घरों में नजरबंद कर दिया था।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं की बैठक पार्टी मुख्यालय में पूर्व सांसद मदन लाल शर्मा की अध्यक्षता में हुई जिसमें पूर्व मंत्री जीएम सरूरी, ठाकुर बलवान सिंह, मुख्य प्रवक्ता रविंद्र शर्मा, योगेश साहनी, मनमोहन सिंह, चौधरी शाह नवाज, नम्रता शर्मा, विक्रम मल्होत्रा, उदय चिब व अन्य नेता शामिल हुए। नेताओं ने भाजपा पर बरसते हुए कहा कि भाजपा बदले की भावना के साथ काम कर रही है। लोकतंत्र में विपक्ष की आवाज को दबाया जा रहा है। शीघ्र ही पार्टी के नेताओं की रिहाई की जाए।

पार्टी ने इस मामले को हाई कमान के समक्ष उठाने पर भी विचार विमर्श किया। पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रविंद्र शर्मा ने कहा कि कई राज्यों के विधानसभा नतीजे पक्ष में न जाने पर भाजपा बौखला गई है। बैठक में फैसला किया गया कि पार्टी विपक्ष की आवाज को दबाने के मुद्दे पर जम्मू कश्मीर के कोने कोने में जाकर लोगों को बताएगी। उन्होंने आरोप लगाया कि ऐसा लगता है कि प्रशासन भाजपा के कहने पर कांग्रेस नेताओं को नजरबंद कर रही है। पार्टी इस तरह के हथकंडों से घबराने वाली नहीं है। कांग्रेस की गतिविधियों पर अंकुश लगाने के लिए ही यह सब किया जा रहा है। भाजपा के दावे अनुसार अगर जम्मू कश्मीर में हालात सामान्य है तो फिर कश्मीर जाने से रोका क्यों गया।

भाजपा के इस तानाशाह रवैये के खिलाफ कांग्रेस बड़ा आंदोलन चलाएगी। देश में इस समय आर्थिक मंदी, बेरोजगारी, महंगाई जैसे मुद्दे उभर कर सामने आए है। भाजपा नहीं चाहती कि यह मुद्दे उजागर हों। उन्होंने कहा कि पार्टी नेताओं को जल्द रिहा किया जाए।

Posted By: Rahul Sharma

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस