जम्मू, राज्य ब्यूरो। संसदीय चुनाव नजदीक आते ही प्रदेश कांग्रेस प्रधान समेत नेताओं ने सक्रिय होते हुए जम्मू संभाग के ग्रामीण, सीमावर्ती और दूरदराज इलाकों की तरफ रूख कर लिया है। रैलियों का दौर शुरु कर दिया गया है। पिछले दस दिन में पार्टी के प्रदेश प्रधान जीए मीर ने दो रैलियां की है। अगले एक महीने में एक दर्जन से अधिक रैलियां की जाएगी। रैलियों में भीड़ जुटाने की कोशिश की जा रही है। इसमें स्थानीय नेताओं व कार्यकर्ताओं को सक्रिय किया गया है। पार्टी का पूरा ध्यान जम्मू संभाग की दोनों संसदीय सीटों पर है जो उसने पिछले साल 2014 के चुनाव में भाजपा के हाथों गंवा दी थी। साल 2009 हुए संसदीय चुनाव में जम्मू-पुंछ और ऊधमपुर-कठुआ-डोडा सीटें कांग्रेस ने हासिल की थी। उसके बाद साल 2014 में मोदी लहर में कांग्रेस दोनों सीटों से हार गई।

अनंतनाग और लद्दाख सीट पर झौंकी ताकत

कांग्रेस ने दक्षिण कश्मीर की अनंतनाग सीट और लद्दाख की संसदीय सीट पर अपना पूरा जोर लगाना शुरु किया है लेकिन शुरुआत जम्मू संभाग की इन दो सीटों से शुरु की है। जम्मू के बाद पार्टी कश्मीर का रूख करेगी। यह पार्टी की रणनीति का हिस्सा है कि रैलियों और जनसभाओं में पूर्व पीडीपी-भाजपा गठबंधन सरकार को निशाने पर लिया जाए विशेषकर भाजपा को। कश्मीर में खराब हालात को कांग्रेस मुद्दा बना रही है। भाजपा की तरफ से किए गए वायदों को पूरा न करने को भी मुद्दा बनाया जा रहा है। बेरोजगारी, महंगाई पर भी भाजपा को आड़े हाथ लिया जा रहा है।

प्रियंका गांधी की सक्रिय भूमिका से पार्टी में उत्साह

प्रियंका गांधी के कांग्रेस में सक्रिय भूमिका निभाने के पार्टी के एलान के बाद जम्मू कश्मीर में कांग्रेस कार्यकर्ताओं में उत्साह है। कमजोर कांग्रेस को जम्मू-कश्मीर में उस समय नई ऊर्जा मिली थी जब पार्टी ने राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में जीत हासिल की। अगले महीने में जम्मू संभाग में पार्टी का एक दर्जन से अधिक रैलियां और जनसभाएं करने का कार्यक्रम है। इसमें राष्ट्रीय स्तर के नेताओं को भी बुलाया जाएगा। पार्टी के प्रदेश मुख्य प्रवक्ता रविंद्र शर्मा का कहना है कि जम्मू कश्मीर में संसदीय और विधानसभा चुनाव के लिए पार्टी बिलकुल तैयार है। रैलियां शुरु हो चुकी है। हम लोगों के बीच जाकर मोदी सरकार और पूर्व पीडीपी-भाजपा सरकार की नाकामियों को उजागर कर रहे है। ग्रामीण क्षेत्रों में हम हर वर्ग के लोगों की बात सुन रहे है। आने वाले दिनों में प्रचार में बढ़ोतरी होगी।

आज़ादी की 72वीं वर्षगाँठ पर भेजें देश भक्ति से जुड़ी कविता, शायरी, कहानी और जीतें फोन, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Rahul Sharma