जम्मू, जागरण संवाददाता : लोन सेटलमेंट मामलों में घोटालों की आशंका को देखते हुए सीबीआई ने जम्मू कश्मीर बैंक के श्रीनगर स्थित कारपाेरेट कार्यालय में छापा मारा है। सीबीआई को सूचना मिली है कि बैंक ने कई डिफाल्टरों के लोन को वन टाइम सेटल करने के लिए जो योजना शुरू की है उसमें घोटाले हुए हैं।

इन मामलों को सेटल करने की एवज में करोड़ों रुपयों का अवैध लेने देन ऋण धारकों व बैंक के कुछ अधिकारियों के बीच हुआ है। अभी इस बारे में न तो बैंक और न ही सीबीआई की ओर से कोई आधिकारिक बयान जारी किया गया है लेकिन सूत्रों का कहना है कि इस छापेमारी में काफी धांधलियां सामने आ सकती है।

सीबीआई वन टाइम सेटलमेंट मामले की जांच करने के लिए पिछले तीन दिनों से लगी हुई है। श्रीनगर स्थित बैंक के कारपोरेट आफिस में सीबीआई के अधिकारियों ने पहुंच कर 2012 से लेकर 2019 तक के लोन सेटलमेंट के दस्तावेज व रिकार्ड को अपने कब्जे में लिया है। सीबीआई की इस टीम में चार डीएसपी व सात इंस्पेक्टर स्तर के अधिकारी शामिल हैं।

इन अधिकारियों की संख्या से ही पता चलता है कि सीबीआई पूरी तैयारी के साथ छापा मारने पहुंची थी। कारपोरेट आफिस में छापेमारी के दौरान पूरी इमारत को सील कर दिया गया। कार्यालय के बाहर पुलिस की तैनाती कर दी गई ताकि कोई बाहर से अंदर न आ सके और न ही अंदर से कोई आवश्यक दस्तावेजों को लेकर बाहर निकल सके। सूत्रों के अनुसार इस छापेमारी का नेतृत्व एक पुलिस सुपरिटेंडेंट स्तर का अधिकारी कर रहा है।

वहीं इस छापेमारी के बाद बैंक के कर्मचारियों में हड़कंप मचा हुआ है। यह पहला मामला नहीं है जब जेके बैंक में इस तरह की धांधली को लेकर हुआ है। इससे पहले भी बैंक में लोन देने को लेकर मामले पेश आ चुके हैं और कई मामलों की जांच चल रही है।

 

Edited By: Rahul Sharma