जम्मू, [ अवधेश चौहान ]।  जम्मू कश्मीर में गर्मियों की छुट्टियों में बाहरी राज्यों और स्थानीय लोगों के लिए बड़ी खुशखबरी है कि पुराने जम्मू शहर के पीरखोह से महामाया व महामाया से बाहूफोर्ट तक केबल कार परियोजना के दोनों चरणों का काम पूरा कर लिया गया है। महत्वकांक्षी केबल कार परियोजना 15 जून को लोगों के लिए खोल दी जाएगी। केबल कार परियोेजना तवी नदी के उपर से गुजरेगी तो यह नजारा देखने लायक होगा।

केबल कार के दोनों चरणाें का काम पूरा हो चुका है

केबल कार परियोजना के प्रबंधक निदेशक शमीम वानी का कहना है कि केबल कार के दोनों चरणाें का काम पूरा हो चुका है। पहला चरण महामाया पार्क से पीरखों तक का काम पूरा कर लिया गया है। हवा से हवा के बीच 1137 मीटर के इस सैर में 14 कैबिन होंगे। जबकि सेक्शन दो महामाया से बाहू फार्ट के 4.74 मीटर के एरियल सफर के दाैरान तवी किनारे लगते महामाया के जंगलों से गुजरेगा। जिसमें 8 कैबिन लगाए गए हैं। केबल कार के जरिए लोग बाहू किले में मां मां दुर्गा और महामाया मंदिर में मां भगवती के दर्शन आसान हो जाएंगे।

करीब 1.6 किलोमीटर लंबे इस केबल कार प्रोजेक्ट में तीन टर्मिनल बने हैं

करीब 1.6 किलोमीटर लंबे इस केबल कार प्रोजेक्ट में तीन टर्मिनल बने हैं। पहला टर्मिनल पीरखोह, दूसरा महामाया पार्क और तीसरा बाहूफोर्ट में बनाया गया है। पर्यटक बाहूफोर्ट या पीरखोह से गंडोले में बैठ कर बावे वाली माता, एतिहासिक पीरखोह गुफा, महामाया मंदिर सहित अन्य स्थलों का नजारा ले सकेंगे। प्रत्येक केबिन में छह लोगों के बैठने की क्षमता है। इस केबल कार से प्रति घंटा 400 लोगों को पहुंचाया जा सकेगा। यहां आने वाले पर्यटकों के लिए 122 वाहनों को खड़ा करने की क्षमता वाला पार्किंग स्थल भी बनाया गया है।

पीरखोह व बाहूफोर्ट में वाहनों के लिए पार्किंग स्थल, व्यू प्वाइंट, शौचालय निर्माण का कार्य पूरा हाे चुका है और बाहूफोर्ट में एक विश्व स्तरीय यूरोपियन स्टाइल का रेस्तरां भी उद्घाटन का इंतजार कर रहा है जहां से तवी नदी व पुराने शहर का अद्भुत नजारा देखने को मिलता है। संभवत राज्यपाल सत्यपाल मलिक इस परियोजना का उद्घघाटन करेंगे।

व्यू प्वाइंट बनाए जाए

मेयर चंद्र मोहन गुप्ता ने दावा किया है कि केबल कार परियोजना 15 जून को लोगों को समर्पित कर दी जाएगी। परियोजना के शुरू होन का स्थानीय लाेगों को भी बेसब्री से इंतजार है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को तीन फरवरी को इस परियोजना का उद्घाटन करना था, लेकिन 20 जनवरी को मॉक ड्रिल के दौरान मजदूरों से लदी एक ट्रॉली की रॉड टूट गई थी। इसमें दो श्रमिकों की मौत हो गई थी, जबकि चार गंभीर रूप से घायल हो गए थे।हमारी कोशिश है कि गर्मियों की छुट्टियों में अधिक से अधिक सैलानी जम्मू आएं और केबल कार के जरिए जम्मू तवी नदी के प्राकृतिक नजारें को केबल कार के जरिए देखें। मेयर चंद्र मोहन गुप्ता ने शुक्रवार को केबल कार प्रोजेक्ट स्थल का दौरा करते हुए कहे।

उन्होंने केबल कार कारपाेरेशन के डिप्टी प्रोजेक्ट मैनेजर के अलावा अन्य अधिकारी उनके साथ थे। मेयर ने कहा कि यहां और व्यू प्वाइंट बनाने की जरूरत है। यहां जब यात्री आएं तो उन्हें ठहराने के लिए बंदोबस्त हों। शेल्टर वाले बैंच लगाए जाने चाहिए। हैगिंग वाले गमले लगाते हुए इलाके की खूबसूरती बढ़ाई जाए। इसके अलावा रास्तों को भी सजाया जाए जिससे यहां आने वाले पर्यटक आकर्षित हों तथा अच्छा संदेश लेकर लौटे।

दर्शनों के साथ मां भगवती के दर्शन भी होंगे सरल

शमीम वानी, एमडी, जम्मू कश्मीर केबल कार परियोजना जल्द शीघ्र शुरू हो रही है। पर्यटन सीजन में परियोजना के शुरू होना अच्छी बात है। इससे बाहरी राज्यों में भी अच्छे संकेत जाएंगे और महामाया जंगलों और बाहू किले को जोड़ती बीच बने इस केबल कार से लाेग मंदिरों में मां दुगा के दर्शनों के साथ केबल कार का भी लुत्फ उठा सकेंगे। महामाया से पीरखों तक केबल कार परियोजना का काम पूरा हो चुका है। दर्शनों के साथ मां भगवती के दर्शन भी होंगे सरल।

तुर्की के इंजीनियर परियोजना का करेंगे दौरा

दामोदर रोप वे इंडिया लिमिटेड कंपनी के वाइस प्रेसिडेंट एवं सीनियर एक्जीक्यूटिव रंजीत पकरासी का कहना है कि 19 मई को तुर्की से इंजीनियरों की टीम जम्मू पहुंचेगी। जो केबल की ग्रिप टेस्टिंग करेगी। अगले माह इसे लोगों को समर्पित कर दिया जाएगा। इससे करीब सौ लोगों को रोजगार मिलेगा।

पांच साल तीन माह में पूरा हुआ प्रोजेक्ट

वर्ष 2002 में तत्कालीन मुख्यमंत्री मुफ्ती मोहम्मद सैयद ने जम्मूवासियों को पीरखोह से महामाया व महामाया से बाहूफोर्ट तक केबल कार चलाने का हसीन सपना दिखाया था। कई अड़चनों को पार करने के करीब एक दशक बाद राज्य के तत्कालीन मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला के 24 फरवरी 2014 को इसका नींव पत्थर रखा। केबल कार कारपोरेशन ने कोलकाता की दामोदर रोप-वे एंड इंफ्रा लिमिटेड कंपनी को टेंडर अलाट किया जिसने अनंतनाग की फैच कंस्ट्रक्शन कंपनी को निर्माण का जिम्मा सौंपा। केबल कार के केबिन तुर्की की कंपनी एसटीएम टेलीफेरिक कंपनी ने किया है।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Rahul Sharma