संवाद सहयोगी बसोहली: पिछले 48 घंटे से क्षेत्र में बारिश के कारण बसों के पहिये थम गये हैं। बसोहली से माश्का बस को तो भेजा गया मगर रास्ते में कीचड़ और मलबे के कारण यह बस माश्का पहुंच पाएगी इस बात की गारंटी चालक भी नहीं दे रहे हैं। बसोहली से धार महानपुर कोई भी बस आज रवाना नहीं हो पाई। इस सड़क पर कई जगहों पर फिसलन और मलबा आ जाने के कारण चालक बस को ले जाने में असमर्थ दिखे। बसोहली से सियालग जाने वाली बस भी बस अड्डे पर ही रही। इस सड़क पर भी कई जगहों पर पानी आने और मलबे के कारण चालक बस को नहीं ले पाया। बाड़ीघाट एवं सुचेरा भी कोई बस दलदल के कारण नहीं गई। बसोहली से बनी न कोई बस आई और न ही रवाना हुई। बनी सड़क पर कई जगहों पर मलबा गिरने और बर्फ के गिरने का कारण बताया गया। एजेंट बिट्टू ने बताया कि जिन सड़कों पर जान जोखिम में डालकर वाहन चलाना पड़ता है, उन रूटों पर वाहन चालकों ने वाहन ले जाने से मना किया। इसका मुख्य कारण है कि जगह-जगह फिसलन के कारण कोई भी खतरा मोल नहीं लेना चाहता है। जिन जगहों पर वाहन नहीं चले वहां के यात्रियों को बसोहली में रुकने को मजबूर होना पड़ा।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस