जम्मू, राज्य ब्यूरो: देश के 75वें स्वतंत्रता दिवस पर सीमा सड़क संगठन लद्दाख में सबसे उंचे दर्रों पर तिरंगे फहराकर अपने बुलंद हौंसले का सबूत देगा।

सीमा सड़क संगठन लद्दाख के दुर्गम हालात में चीन पाकिस्तान जैसी देशों के सामने सीना ताने खड़ी भारतीय सेना को निरंतर मजबूत बनाने के लिए कार्य कर रहा है। संगठन के सड़कें , पुल बनाने की मुहिम दूरदराज इलाकों में विकास को तेजी देकर लोगों की अर्थव्यवस्था को भी बढ़ावा दे रही है।

ऐसे में लद्दाख में आजादी का अमृत महोत्सव को यादगार बनाने के लिए सीमा सड़क संगठन ने हाल ही में यातायात के लिए खोले गए 19330 ऊंचे उमलिंगला पास पर तिरंगा फहराने की तैयारी की है। सीमा सड़क संगठन ने क्षेत्र में सियाचिन ग्लेशियर से भी उंचे इलाके में 52 किलोमीटर सड़क बनाकर सेना के साजो सामान को जल्द वास्तविक नियंत्रण रेखा तक पहुंचाने की दिशा में सराहनीय कार्य किया है। इस पास के बनने से सेना क्षेत्र में चीन का मुकाबला करने के लिए और मजबूत हो गई है।

उमलिंगला पास के साथ सीमा सड़क संगठन, लद्दाख में 18000 फीट की ऊंचाई पर सियाचिन के निकट ग्याेंगला, सिया ला, मरसिमिम ला के साथ 17,582 फीट उंचे खारदुंगला पास पर भी तिरंगे फहराएगी। तिरंगा लहराने के इन कार्यक्रमों में स्थानीय लोगों को भी शामिल किया जाएगा।

सीमा सड़क संगठन पूर्वी लद्दाख में चीन से लगती वास्तविक नियंत्रण रेखा व पश्चिमी लद्दाख में पाकिस्तान से लगती नियंत्रण रेखा पर सड़कों व पुलों का निर्माण कर दुश्मन के मंसूबों को नाकाम बनाने के लिए सेना को मजबूत बना रहा है सीमा सड़क संगठन के इस अभियान से दूरदराज के इलाकों में विकास को तेजी मिली है। 

Edited By: Rahul Sharma