मीरां साहिब, संवाद सहयोगी। क्षेत्र में कोरोना संक्रमण के कारण जहां लॉकडाउन लगा हुआ है । इस दौरान सुबह 6 बजे से लेकर 10 बजे तक जरूरी सामान की दुकान खुल रही हैं ताकि लोगों को जरूरी सामान मिलता रहे। दुकानों से खरीदारी करने वाले लोगों के अनुसार इन दिनों कई दुकानदार मुनाफाखोरी में जुटे हुए हैं और लोगों से मनमाने दाम वसूल रहे हैं।

स्थानीय निवासी चमन लाल, परमजीत सिंह, गुरचरण सिंह व रेखा कुमारी आदि का कहना है? कि कुछ मौका परस्त दुकानदार कोरोना महामारी की आड़ में लोगों को महंगे दामों पर वस्तुओं दे रहे हैं। अगर कोई ग्राहक किसी दुकानदार से ज्यादा दाम वसूलने की बात करता है, तो इन दुकानदारों का कहना होता है? कि पीछे से सामान की किल्लत बनी हुई है। अगर सामान आ भी रहा है तो महंगा मिल रहा है, क्या करें। 

लोगों के अनुसार कोरोना के चलते जहां पिछले कुछ दिनों से ही दुकानें बंद है। इतनी जल्दी सामान कैसे महंगा आने लगा है।लोगों ने आरोप लगाया कि व्यापारी वर्ग मुनाफाखोरी करने में जुटा है और प्रशासन को ऐसे लोगों के खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिए।

समाज सेवक सेवक दर्शन लाल का कहना है कि केंद्र सरकार ने सभी राज्य सरकारों व केंद्र शासित प्रदेशों की सरकारों को मुनाफाखोरी रोकने के लिए कड़ी नजर रखने की हिदायत दी है। इसके बावजूद व्यापारी वर्ग पर इसका कोई असर नहीं दिखता है। उन्होंने मांग करते हुए कहा कि प्रशासनिक उच्च अधिकारी इस ओर ध्यान दें और जो भी दुकानदार वर्ग महंगे दामों पर लोगों को सामान दे रहे हैं, उनके खिलाफ कार्रवाई की जानी चाहिए।

उन्होंने प्रशासन से इस ओर ध्यान देने और मुनाफाखारी करने वाले व्यापारियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की मांग की है। लोगों का कहना है कि प्रशासनिक अधिकारियों का फर्ज बनता है कि वह व्यापारी वर्ग को चेतावनी दे ताकि लोगों को इंसाफ मिल सके। उधर इस संबंध में थाना प्रभारी सुल्तान मिर्जा का कहना है कि अभी तक उनके पास इस तरह की कोई शिकायत नहीं आई है फिर भी दुकानदारों को चेतावनी देते हैं कि वह वाजिब दामों पर ग्राहकों को सामान दे। अगर किसी दुकानदार के खिलाफ शिकायत मिलती है तो उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

Edited By: Vikas Abrol